मातापिता की मौत के बाद संध्या अकेली रह गई थी. रहरह कर उन की बातें संध्या को याद आ रही थीं. आज उस का झूठा दंभ टूट चुका था.