आरक्षण और दलित कानून को ले कर संवैधानिक बदलावों के बाबत सावित्री बाई फूले भाजपा के लिए राह का कांटा बन गई हैं.