सरकार कानून कड़े करती जा रही है, सामाजिक संगठन हायतोबा मचा रहे हैं लेकिन युवतियों के साथ छेड़छाड़ की घटनाएं दिनोदिन बढ़ती जा रही हैं. छेड़छाड़ करने वालों के हौसले इतने बुलंद हैं कि न उन्हें समाज का डर है न कानून का.