युवा कसबों और गांवों से बुरी तरह शहरों और मैट्रोज में आ रहे हैं जहां शिक्षा के अवसर और कमाई के रास्ते तो हैं ही, खुलापन भी है जो उन के गांवकसबे में बिलकुल नहीं है.