खुद को पीड़ित बताते हुए जितेंद्र की बहन ने खुलासा किया है कि जब वह 18 साल की थी और जितेंद्र 28 साल के थे, जितेंद्र ने उनके साथ इस वारदात अंजाम दिया था.