जब भी प्रधान रामसकल का मूड सतिया से खेलने का होता, तो ईंटभट्ठे पर उस से मिलते. बाद में बैजू भी सतिया की जवानी का मजा ले कर उसे घर छोड़ देता.