सरस सलिल विशेष

VIDEO : सिर्फ 1 मिनट में इस तरह से करें चेहरे का मेकअप

ऐसे ही वीडियो देखने के लिए यहां क्लिक कर SUBSCRIBE करें गृहशोभा का YouTube चैनल.

चौधरी नत्था सिंह के घर एक बैठक चल रही थी. एक मैनेजर और कई दूसरे लोग चौधरी नत्था सिंह के ड्राइंगरूम में बैठे सलाहमशवरा कर रहे थे. चौधरी नत्था सिंह जिले के गांवों के चमड़े के ठेकेदार थे. मरे हुए जानवरों का चमड़ा निकलवा कर और उन के अंगों का कारोबारी इस्तेमाल कर के चौधरी साहब करोड़ों रुपए सालाना कमाते थे.

हैरत की बात यह थी कि वे खुद कुछ नहीं करते थे. सभी गांवों में उन के द्वारा बहाल 10-20 दलित तबके के लोग अपने गांवों के मरे हुए जानवरों की लाश उठाते थे और उन का चमड़ा, सींग, चरबी वाला मांस वगैरह चौधरी साहब के गोदाम में भेज देते थे. महीने में 2 बार उन को उन के काम का नकद भुगतान कर दिया जाता था.

चौधरी साहब के पास 2 ट्रैक्टरट्रौली समेत एक जीप और एक दूसरी शानदार कार थी. उन के 6-6 फुट के 2 नौजवान भतीजे लाइसैंसी रायफल ले कर हमेशा उन के साथ रहते थे.

चौधरी साहब की गांवों के दलितों पर इतनी मजबूत पकड़ थी कि पूरे जिले के सांसद, विधायक, डीएम, एसपी उन के साथ अदब और इज्जत के साथ पेश आते थे. वे शहर में एक बड़ी सी कोठी में शान से रहते थे. गांव में उन का 5 बीघे का गोदाम है और तकरीबन 50 बीघा खेती की जमीन वे अपने ही तबके के दूसरे किसानों से खरीद चुके थे.

चौधरी साहब के ज्यादातर दलितों पर सैकड़ों एहसान थे. दवादारू से ले कर पुलिस केसों में उन की मदद करना और शादी में हजारों रुपए की मदद करना उन का शौक ही नहीं, रोजमर्रा का काम था.

किसी से न डरने वाले चौधरी साहब के पास खबर आई कि उन के 2 कामगार जब गाय का चमड़ा निकाल रहे थे, तब कुछ ऊंची जाति वालों ने, जो अपने को गौरक्षक कहते थे, उन्हें बुरी तरह से मारा था. उन में से एक की अस्पताल में मौत हो गई थी.

इलाके के सभी दलित गुस्से में थे. डीएम और एसपी चौधरी साहब से तुरंत मिलना चाहते थे.

चौधरी साहब को याद आई वह पंचायत, जो आजादी के 2 साल बाद ही उन के गांव में दलितों की चौपाल पर हुई थी. तब वे तकरीबन 6 साल के थे. जाट जमींदारों के जोरजुल्मों से तंग आ कर दलितों ने लाठीभाले उठा लिए थे, उन के खेतों में काम करना बंद कर दिया था. आखिर में जाटों द्वारा माफी मांगने पर ही दलितों ने काम करना शुरू किया था.

आज शाम 5 बजे दलितों की चौपाल पर ही इस बात का फैसला होगा… चौधरी साहब ने मजबूती से अपनी बात कही और डीएम व एसपी को संदेश भिजवा दिया. शाम को उन के गांव में माहौल बहुत गरम था.

51 गांवों के दलित लाठीभाले ले कर दलितों की चौपाल पर डटे थे. सैकड़ों की तादाद में हथियारबंद दलित चौपाल के आसपास पूरे महल्ले और घरों की छतों पर मौजूद थे. हवा में इतना जहर घुला था कि कोई भी छोटी सी चिनगारी बड़ा दंगा करा सकती थी. गांव के समझदार लोग चौधरी नत्था सिंह का इंतजार कर रहे थे.

‘जय भीम’ के नारे साथ ही चौधरी नत्था सिंह चौपाल पर पहुंचे थे. डीएम, एमपी, स्कूल के हैडमास्टर निर्मल सिंह, गांव के प्रधान पंडित जयप्रकाश सभी मौजूद थे.

सभी दलित खतरनाक नारे लगाने लगे ‘खून का बदला खून…’ पंचायत में मौजूद लोगों को पसीना आ रहा था. पुलिस के 50-60 जवान अपनी जगह मुस्तैद थे.

अचानक चौधरी नत्था सिंह खड़े हुए. उन की बुलंद आवाज बिना माइक के गूंज उठी, ‘‘गाय का दूध पी कर, घी खा कर, ताकत हासिल करने वाले गौरक्षको सुनो, आज से अपनी मरी हुई गौमाता का अंतिम संस्कार हम नहीं करेंगे. जिस मां का दूध पी कर तुम हम पर जोरजुल्म करते हो, उस के मरने के बाद उस की खाल भी तुम्हीं निकालोगे. कोई भी दलित आज से गौमाता की खाल नहीं निकालेगा, न ही उस की लाश उठाएगा.’’

यह सुन कर ऊंची जाति वालों को जैसे सांप सूघ गया. 2 दिन बाद ही सब ने देखा कि पंडित जयप्रकाश अपने बेटे के साथ मिल कर अपने घेर में एक कब्र खोद रहे थे… अपनी मरी हुई गौमाता का अंतिम संस्कार करने के लिए.