दिव्या के कहने पर अमर रागिनी को घुमाने ले गया. जब वह रागिनी को सैर करा रहा था, तब वह अमर के संग ऐसे चिपक कर चल रही थी, मानो उस की बीवी हो.