सरस सलिल विशेष

आप ने कई लोगों के मुंह से सुना होगा कि ये बाल धूप में ऐसे ही सफेद नहीं हुए हैं. दरअसल, यह कह कर वे अपने तजरबे की अहमियत समझा रहे होते हैं. लेकिन आजकल कोई नहीं चाहता कि उस के बाल सफेद हों और लोग उसे बूढ़ा समझें, इसलिए बालों में डाई लगा कर जवान दिखना अब मजबूरी कम और फैशन ज्यादा है.

धूल, प्रदूषण, अनियमित खानपान, कौस्टमैटिक चीजों का इस्तेमाल वगैरह वजहों से कम उम्र में ही लोगों के बाल सफेद हो रहे हैं. दरअसल, बालों में मैलानिन नाम का पिगमैंट पाया जाता है. यह उम्र के साथ बनना कम हो जाता है और बाल सफेद होने लग जाते हैं. कई लोगों में मैलानिन का बनना कम उम्र में ही तकरीबन रुक सा जाता है. ऐसे हालात में बाल सफेद होना शुरू हो जाते हैं.

इसे देखते हुए बाजार में अलगअलग कंपनियों ने कई तरह के ब्रांड के हेयर डाई व कलर्स उतारे हैं. हालांकि कुछ लोग सैलून जा कर बालों को डाई कराते हैं लेकिन आप चाहें तो यह काम घर पर भी कर सकते हैं. यह समय और पैसा दोनों बचाता है. कुछ खास बातों को ध्यान में रख कर आप अपने बालों को पार्लर में डाई किए गए बालों जैसा लुक दे सकते हैं.

आमतौर पर हेयर डाई या हेयर कलर 3 तरह के होते हैं, जैसे टैंपरेरी कलर, सैमीपरमानैंट डाई और परमानैंट डाई.

टैंपररी कलर जहां सिर्फ एक शैंपू तक ही टिकते हैं वहीं सैमीपरमानैंट 5 से 6 हफ्ते और परमानैंट डाई का असर लंबे समय तक बरकरार रहता है.

भारत में सब से ज्यादा सैमीपरमानैंट डाई का चलन है. हेयर कलर और हेयर डाई में यही फर्क है कि बाल की सिर्फ बाहरी परतों को कलर करने के लिए हेयर कलर लगाया जाता है जबकि डाई बाल में अंदर की सतह तक जा कर बालों को लंबे समय तक रंग देता है.

बालों को डाई करने से पहले बालों के रंग के हिसाब से डाई के रंग को चुनें. बाजार में सैकड़ों शेड्स आप को मिल जाएंगे. इन्हें चुनने में अपनी हेयरस्टाइल और लेटेस्ट फैशन का ध्यान रखें. डाई खरीदने के साथसाथ हेयर डाई का दूसरा सामान भी खरीद लें, जैसे तौलिया, कंघी, हेयर ब्रश, बाउल वगैरह.

डाई करने से पहले अच्छे ब्रांड के शैंपू से बालों को धो लें, फिर सूखने पर कलर करें और उतनी देर तक कलर लगाएं जितना समय निर्देश में लिखा हो. फिर बालों को धो कर कंडीशनरका इस्तेमाल करें ताकि बालों की चमक बरकरार रहे.

प्लास्टिक, कांच या चीनी मिट्टी के बरतन में ही हेयर कलर डालें. किसी धातु के बरतन का इस्तेमाल न करें. बालों पर दोबारा डाई लगाते समय भी कंपनी के दिशानिर्देशों का पालन करें वरना जरूरत से ज्यादा गहरा काला रंग बालों को अजीब सा लुक दे देता है.

डाई करने से कई लोगों को सिर में एलर्जी हो जाती है इसलिए हर बार डाई के इस्तेमाल से पहले चमड़ी की एलर्जी की जांच जरूर करें. भौंहों पर डाई भूल कर भी न लगाएं, इस से अंधेपन का खतरा रहता है. अगर कलर लगा रहे हैं तो अमोनिया फ्री कलर ही खरीदें.

आजकल ब्यूटीपार्लर, सैलून या ब्यूटी ऐक्सपर्ट भी अमोनिया फ्री कलर इस्तेमाल करने की ही सलाह देते हैं. अमोनिया एक कठोर क्लीनिंग कैमिकल है जो बालों और चमड़ी के लिए अच्छा नहीं होता है.

अगर डाई लगाना झंझट भरा काम लगता है या आप को इस का तजरबा नहीं है तो किसी की मदद से बालों पर कलर करें, नहीं तो ब्यूटीपार्लर में ऐक्सपर्ट से करवाएं. बाजार में ऐसे डाई भी मौजूद हैं जो सीधा बालों पर लगा सकते हैं.

आजकल जो दिखता है वही बिकता है का जमाना है. आप भी डाई लगा कर जवान दिखेंगे तो हमेशा एक ऊर्जा से लैस रहेंगे. आज बाल केवल इसलिए डाई नहीं किए जाते कि वे सफेद हो गए हैं, बल्कि ऐसा करना फैशन का सिंबल भी बन गया है.

CLICK HERE