धर्म, समाज व संप्रदाय के आज के रिवाजों व रूढि़वादी उसूलों के चलते न जाने कितने जवां दिलों को अपनी हंसतीखेलती जिंदगी गंवानी पड़ रही है.