जुआ, सट्टा, शराब या कोई दूसरा नशा और धंधेवालियों के पास जाने वालों को कर्ज ज्यादा और जल्दी जल्दी लेना पड़ता है. ऐसे लोग शुरू में तो खर्च पर ध्यान नहीं देते हैं, लेकिन फिर..