अखबार व टीवी चैनल्स धार्मिक अंधविश्वास फैलाती सामग्री से न सिर्फ सराबोर हैं बल्कि दिनरात इन के प्रचार के लिए कई सिंडिकेट सक्रिय हैं.