कार्तिक माह में कार्तिक व्रत को हिंदू धर्म में बढ़ाचढ़ा कर पेश किया जाता है जबकि इस कथा के हर अध्याय में अविश्वसनीय, अवैज्ञानिक प्रसंग जोड़ कर अंधविश्वासियों के दिमाग में इस की तथाकथित महत्ता को ठूंसठूंस कर भरा गया है.