आज भी देश की आबादी का एक बड़ा हिस्सा तंत्रमंत्र, झाड़फूंक के मकड़जाल में जकड़ा हुआ है. नतीजतन, आज भी देश तरक्की की दौड़ में काफी पिछड़ा हुआ है.