जिस तरह से सामाजिक ढांचा चरमरा रहा है, उसी तरह मालिक व नौकर के रिश्तों की गरिमा, तालमेल और पारस्परिक सम्मान की भावना का हृस हो रहा है.