भारत में दलित और स्त्रियों में चेतना के उभार के बीच इन पर अत्याचार, भेदभाव व हिंसा के किस्से भयावह होते जा रहे हैं. यह पौराणिक सोच की परिणति नहीं तो क्या है.