सरस सलिल विशेष

आज लड़के लड़कियां एक दूसरे को खुलेआम डेट कर रहे हैं और दुनिया के कई देशों में ये आम बात भी है. इतना ही नहीं आज ‘हाई स्कूल डेटिंग’ तेजी से बढ़ती जा रही है. लेकिन अगर आप जापान का किस्सा सुनेंगे तो हैरान रह जाएंगे.

दरअसल, यहां ‘हाई स्कूल डेटिंग’ का काफी चलन है. इसमें स्कूल यूनिफॉर्म पहने लड़कियां ज्यादा उम्र के पुरुषों के साथ डेटिंग करती हैं. लड़कियां इस डेटिंग के एवज में अच्छी-खासी रकम लेती हैं. इस तरह की ज्यादातर डेटिंग्स में मामला साथ सोने पर जाकर खत्म होता है.

आपको बता दें कि ‘हाई स्कूल डेटिंग’ असल में ‘बाल वेश्यावृति’ का ही एक रूप है. जापान में इसे ‘JK’ या फिर ‘हाई स्कूल डेटिंग’ बिजनेस कहा जाता है. स्थानीय भाषा में JK का मतलब जोशी कोसेई होता है, जिसका अर्थ हाई स्कूल में पढ़ने वाली लड़कियां है. इसे यहां काफी मुनाफे का बिजनेस माना जाता है.

एक रिपोर्ट के मुताबिक हाई स्कूल कैफे में बैठे हुए एक अधेड़ उम्र शख्स ने बताया, ‘इन लड़कियों से बात करना आसान है. इन दिनों हमें साधारण बार अच्छे नहीं लगते. वहां बड़ी उम्र की महिलाओं के साथ मैं बोर हो गया था.’ स्कूल यूनिफॉर्म पहने हुए एक 17 साल की नाबालिग लड़की इस शख्स और उसके एक दोस्त के लिए बीयर और खाने-पीने की चीजें लेकर आई. इन दोनों लोगों ने माना कि छोटी उम्र की यूनिफॉर्म पहनी लड़कियां उन्हें ज्यादा लुभाती हैं. 40 की उम्र के एक दूसरे अधेड़ शख्स ने कहा, ‘ये लड़कियां बहुत प्यारी लगती हैं. स्कूल यूनिफॉर्म में ये असलियत से ज्यादा प्यारी लगती हैं.’

इस तरह की डेटिंग्स के लिए खास कैफे बने होते हैं. कई जगह तो बड़े दिलचस्प नियम भी हैं. मसलन, कैफे 10 बजे बंद हो जाने चाहिए ताकि वहां आने वाले पुरुष सही समय पर अपने घर अपनी पत्नियों के पास पहुंच सकें. हाई स्कूल डेटिंग भी कई तरह की होती है. कई कैफे में ऐसी व्यवस्था है कि कम उम्र की हाई स्कूल लड़कियां वन-वे शीशे के आगे स्कूल यूनिफॉर्म पहनकर बैठती हैं और अपने ‘ग्राहकों’ की मर्जी के मुताबिक पोज देती हैं. फिर ‘टूर गाइडिंग’ की भी व्यवस्था है. इसमें ग्राहक चाहे, तो लड़कियों को लेकर टहलने जा सकता है. इस तरह के मामले अक्सर सैक्स सर्विस देने पर खत्म होते हैं. ऐसी डेटिंग्स भी हैं, जहां ग्राहक सैक्स करने में ही दिलचस्पी लेते हैं और इसके एवज में पैसे देते हैं.