सरस सलिल विशेष

‘इतना मजा क्यों आ रहा है, तू ने हवा में भांग मिलाया…’ फिल्म ‘ये जवानी है दीवानी’  का यह गीत सुन कर मन होली की मस्ती में डूबने को करता है. ऐसा लगता है कि वाऊ होली कितना मस्त त्योहार है. इस दिन खूब धमाल मचाएंगे. खूब रंगगुलाल उड़ाएंगे. दोस्तों संग खूब मस्ती करेंगे, लेकिन ऐसी फीलिंग इस गीत को सुनने तक ही रहती है, जब इस फैस्टिवल को रीयल में मनाने की बात आती है तो हम खुद को घर में कैद करना ही बेहतर समझते हैं. हमें लगता है कि कौन रंगगुलाल लगा कर अपना चेहरा खराब करे, क्यों न इस दिन छुट्टी को सो कर या टीवी देख कर बिताया जाए.

हमारी यही सोच आज हमें इस फैस्टिवल को जीभर कर ऐंजौय नहीं करने देती, जबकि एक समय हम होली का इंतजार कई महीनों पहले से करना शुरू कर देते थे, तो फिर आज क्यों नहीं. तो क्यों न यह बात मान कर चलें कि अगर आज ऐंजौय नहीं किया तो ये पल फिर दोबारा नहीं मिलेंगे, तो फिर हो जाएं तैयार होली के रंग में रंगने के लिए.

भारत में विभिन्न जगहों पर होली सैलिब्रेशन

होली भले ही रंगों का त्योहार है लेकिन इसे मनाने का अंदाज हर जगह अलग है जैसे :

–  दिल्ली में होली पर ग्रैंड सैलिब्रेशन होता है, जिस की तैयारी कई दिन पहले से ही शुरू हो जाती है. होली वाले दिन सब एकदूसरे को गले लगा कर तिलक लगाते हैं व टोलियों में अपने घरों की छतों व पार्कों में खूब एेंजौय करते हैं. इस दिन घरों में कई तरह के पकवान भी बनते हैं जिस से इस का मजा दोगुना हो जाता है.

–  उत्तर प्रदेश के कई इलाकों में होली सिर्फ रंगों से ही नहीं बल्कि लाठियों से सैलिब्रेट की जाती है, जिस में परिवार की औरतें पुरुषों पर लाठियां बरसाती हैं, जिस का मकसद किसी को चोट पहुंचाना नहीं बल्कि सिर्फ फन होता है.

–  उत्तराखंड के कुमाऊं क्षेत्र में खड़ी होली मनाई जाती है, जिस में लोग अपनी पारंपरिक वेशभूषा पहन कर महल्लों में घूमते हुए गीत गाते हैं.

–  केरल में होली को मंजल कुली के नाम से जाना जाता है. वहां इस दिन खूब मस्ती की जाती है.

–  बिहार में होली पर अलग ही नजारा देखने को मिलता है. वहां रंगगुलाल के साथ इस मौके पर भांग भी जम कर पी जाती है. वहां होली को फगुआ कहते हैं.

–  असम में होली को फाकुआ के नाम से जाना जाता है. यहां पर यह त्योहार 2 दिन तक मनाया जाता है. होली से एक दिन पहले क्ले के घर बना कर उन्हें जलाया जाता है, वहीं दूसरे दिन रंगों से होली खेली जाती है.

–  महाराष्ट्र और मध्य प्रदेश में होली के 5 दिन बाद रंगपंचमी बहुत ही फन के साथ मनाई जाती है.

– राजस्थान के उदयपुर में रौयल होली मनाई जाती है. इस की सजावट इतनी शानदार होती है कि देखने वाले दंग रह जाते हैं.

हुड़दंग का नहीं अपनों के साथ टाइम स्पैंड का मूवमैंट

होली का मतलब ऊटपटांग हरकतें कर के किसी का दिल दुखाना या जबरदस्ती किसी को रंग लगाने की कोशिश करना नहीं है बल्कि इस दिन परिवार व दोस्तों संग जम कर मस्ती करना, टोलियों में घूम कर घरघर विश करना और खूब ऐंजौय करना है ताकि पूरे साल याद रहे यह दिन. इस दिन आप अपने बिजी शैड्यूल के कारण जो समय अपनों को नहीं दे पाए उसे इस त्योहार के बहाने दें तभी आप को एहसास होगा कि आज कुछ खास है तभी तो यह बात है.

देखने से ज्यादा इन्वौल्व भी हों

सरस सलिल विशेष

बहुत से युवाओं की यह सोच होती है कि होली पर अपने घर के आंगन में से ही बाहर की रौनक का लुत्फ उठाया जाए ताकि हम गंदे भी न हों और मजा भी पूरापूरा आ जाए जबकि होली अपनों के साथ मस्ती करने का त्योहार है. इस दिन का मकसद सिर्फ एकदूसरे को रंग लगाना ही नहीं बल्कि पुराने गिलेशिकवे भुला कर फिर से एक हो जाने व मिलबैठ कर पकवानों का लुत्फ उठाने का पर्व है और ऐसा तभी संभव है जब वे इस दिन के लिए पहले से शैड्यूल बना कर चलें.

बौलीवुड में होली का जश्न

बौलीवुड में होली को ले कर काफी क्रेज होता है. वे इस के लिए कई दिन पहले से ही तैयारियां शुरू कर देते हैं, क्योंकि वे हर बार होली को अलग अंदाज में मनाने के मूड में होते हैं. इस दिन वे अपने फेवरिट बौलीवुड करैक्टर को कौपी कर के खुद को एक अलग अंदाज में पेश करने की कोशिश करते हैं या फिर व्हाइट ड्रैस कोड में एकदूसरे को रंगने के लिए बेताब रहते हैं, इस दिन सैलिब्रिटीज होली के मशहूर गीतों पर थिरकती नजर आती हैं यानी चारों तरफ मस्ती का आलम ही नजर आता है.

प्ले होली विद नैचुरल वे

कुछ युवा होली पर जो हाथ में लग जाए जैसे साइकिल की ग्रीस, कैमिकल वाले कलर्स जिन से स्किन को नुकसान पहुंचता है, से होली खेलते हैं. ऐसे में कुछ युवा डर के मारे होली खेलने की हिम्मत नहीं जुटा पाते. इसलिए अच्छा रहेगा कि होली नैचुरल वे में खेलें, घर पर कलर बना कर. अगर आप को औरेंज कलर बनाना है तो 10 लिटर गरम पानी में 500 ग्राम टेसू के फूल डालें और अगर पिंक कलर बनाना है तो 500 ग्राम गुलाब की पत्तियां डालें और उसे 10-12 घंटे के लिए रख दें. फिर देखिए क्या मजेदार रंग बनता है जो स्किन को नुकसान भी नहीं पहुंचाएगा और होली खेलने में मजा आएगा सो अलग.