रजामंदी से बनाए गए शारीरिक संबंध से जहां मन प्रसन्न रहता है वहीं बगैर रुचि के बनाए गए संबंध से मन खिन्न हो उठता है.