सरस सलिल विशेष

अब अपने हर काम में पैसे की मांग के साथ साथ सैक्स की मांग भी होने लगी है. अगर कोई लड़की यूनिवर्सिटी में किसी सब्जैक्ट पर रिसर्च करना चाहती है, तो जिस के डायरैक्शन में वह रिसर्च कर रही है, वह प्रोफैसर चाहे बूढ़ा हो या जवान, उस से सैक्स संबंध बनाने को तैयार रहता है. कई बूढ़े प्रोफैसर अपनी पोती से भी कम उम्र की छात्रा से सैक्स संबंध बना लेते हैं, तो कई स्कूल टीचर अपने स्कूल की 7वीं, 8वीं और 9वीं जमात में पढ़ने वाली छात्राओं से भी पढ़ाने के बहाने उन के जिस्म के नाजुक अंगों पर हाथ फिराते हुए उन्हें सैक्स के लिए उकसाते रहते हैं.

लोगों में सैक्स की लालसा इतनी ज्यादा बढ़ चुकी है कि रात में उन के बच्चे ठीक से सो भी नहीं पाते हैं कि वे सैक्स संबंध बनाने लगते हैं. उन के मजे को बच्चे समझ जाते हैं.

मांबाप की इस लापरवाही का नतीजा यह होता है कि उन के बच्चे भी अपने सगे भाईबहन से सैक्स संबंध बना कर उस के मजे लेने लगते हैं, जिस से कई बार तो कम उम्र की लड़कियां भी पेट से हो जाती हैं.

सैक्स संबंधों की लालसा लोगों में इतनी ज्यादा बढ़ चुकी है कि वे अपने रिश्तों की भी परवाह नहीं कर रहे हैं. बूआ अपने सगे भतीजे से सैक्स संबंध बना रही है, तो ससुर अपने बेटे की बीवी से सैक्स संबंध बना कर अपनी मर्यादा को भूल रहा है. बेटे की गैरहाजिरी में ससुर बहू के साथ शराब पी कर सैक्स संबंध बना रहा है और दादा अपनी ही पोती को हवस का शिकार बना रहा है. उन के ऐसे संबंधों पर कोई शक भी नहीं कर पाता है.

भाभी को अपने प्रेमजाल में फंसाने के लिए देवर शहर से उस के लिए ऐसेऐसे तोहफे ले कर आते हैं कि भाभी खुश हो कर समझ जाती है कि उस का देवर उस के लिए ये सब चीजें क्यों लाता है. खुश हो कर भाभी भी मौका देख उस की बांहों में समा जाती है और फिर देवर अपनी भाभी से सैक्स संबंध बना कर अपने लाए हुए तोहफों की कीमत वसूल कर लेता है.

आजकल हर काम पैसे और सैक्स से होने लगे हैं. अगर किसी बाबू और अफसर से अपना कोई काम कराना है, तो उन्हें पैसे और सैक्स का सुख दे दो तो वे फौरन उन का काम कर देते हैं. अब तो बड़ेबड़े उद्योगपति भी अपने कामों को कराने के लिए नेताओं और अफसरों को पैसे और सैक्स सुख मुहैया कराने लगे हैं.

एक उद्योगपति ने अपनी बेटी से कहा कि एक आईएएस अफसर से अपने बिलों का भुगतान लेना है. पैसे पहुंचा दिए हैं, लेकिन वह बिलों को पास नहीं कर रहा है. उस के नीचे के अफसर से बात की, तो उस ने बताया कि उन के बड़े साहब जरा रंगीनमिजाज हैं, इसलिए उन्हें शबाब की पार्टी दे दो. बेटी को उन की सेवा के लिए भेज दो. छोटी बहन को तुम अच्छी तरह समझा देना.

बड़ी बेटी ने अपनी छोटी बहन को समझा कर उसे उन साहब की सेवा में उन के पास भेज दिया और दूसरे दिन ही उन के सभी बिल पास कर के उन्हें उन का पैसा मिल गया था.

इसी तरह से एक फिल्म हीरोइन जैसी नर्स दूरदराज के गांव में ड्यूटी देते हुए परेशान हो चुकी थी. तब एक नर्स ने उसे बताया कि किसी दिन बड़े डाक्टर साहब को सैक्स सुख दे दे, तो उस का तबादला दूसरे ही दिन हो सकता है. यह सुन कर उस ने ऐसा ही किया और दूसरे दिन ही उस का तबादला अपने शहर में हो गया.

इसी तरह से एक टीचर एक दूरदराज के गांव में ड्यूटी दे रही थी. महीने में एक बार ही वह अपने घर पर आती थी. तबादले के लिए अर्जी देतेदेते वह परेशान हो चुकी थी. तब एक दिन किसी ने उसे बताया कि वह अपने तबादले के लिए कालेज में पढ़ने वाली बेटी को उस अफसर की सेवा में भेज दे, तो उस का तबादला हो सकता है.

यह सुन कर वह उस से बोली, ‘‘ऐसे काम के लिए वह कैसे तैयार होगी?’’

उस ने समझाते हुए कहा, ‘‘वह तैयार हो जाएगी. सैक्स के लिए तो आजकल लड़कियां मरी जाती हैं. अब तक न जाने कितने लड़कों के साथ वह सैक्स के मजे ले चुकी होगी.’’

यह सुन कर वह सब अपनी बेटी से कहने के लिए तैयार हो गई थी.

घर आ कर उस ने अपनी बेटी से इस बाबत कहा, ‘‘बेटी, मेरे तबादले के लिए तुम्हें एक रात मेरे अफसर के पास रहना है.’’

‘‘क्यों नहीं मम्मी,’’ सुन कर बेटी ने खुशी से मुसकराते हुए कहा. अपने तबादले की अर्जी दे कर वह खुशी से मुसकरा उठी.

सरस सलिल विशेष

वह अफसर उस की खूबसूरत बेटी से सैक्स सुख पा कर इतना ज्यादा खुश हुआ था कि दूसरे दिन ही उस के मनचाहे स्कूल में तबादला कर दिया गया था.

तबादले का आदेश देख कर वह यह सोच रही थी कि अगर उसे मालूम होता, तो वह बेटी को पहले ही उन की सेवा में भेज कर अपना तबादला करवा चुकी होती.

उस के बाद तो उस ने दूसरे लोगों के तबादले कराने का उन से ठेका ही ले लिया था. उन से पैसे ले कर वह अपनी बेटी और उस की खूबसूरत सहेलियों को उन की सेवा में भेज कर आज तक उन्होंने न जाने कितने ही लोगों के तबादले करवा दिए हैं.

एक खूबसूरत लड़की के इम्तिहान में कम नंबर आए थे, इसलिए एक बड़े कालेज में उस का दाखिला नहीं हो पा रहा था. जब उसे अपनी एक सहेली से मालूम हुआ कि तुम वहां की प्रिंसिपल के बेटे से दोस्ती कर उसे सैक्स सुख दे दो, तो उन का बेटा अपनी मां से कह कर कालेज में दाखिला दिलवा सकता है.

सुन कर उस ने ऐसा ही किया था. प्रिंसिपल के बेटे ने अपनी मां से कह कर उस का दाखिला उन के कालेज में करवा दिया था. यह देख कर वह लड़की समझ चुकी थी कि आज जो काम आसानी से नहीं हो सकता है, उसे सैक्स सुख दे कर कराया जा सकता है.

राजनीति का क्षेत्र भी इस से अछूता नहीं रहा है. हमारे बड़े बुजुर्ग नेता भी खूबसूरत लड़कियों से सैक्स सुख पाने को लालायित रहते हैं. कई खूबसूरत लड़कियां जो कभी उन की पार्टी की साधारण कार्यकर्ता थीं, वे भी आज अपने बड़े नेताओं की कृपादृष्टि से बड़ेबड़े पदों पर पहुंच कर सत्ता का सुख भोग रही हैं.

अब देश की बहुत सी औरतों की यह सोच बन चुकी है कि अपने मतलब के लिए किसी को सैक्स सुख देने से उन का बिगड़ेगा ही क्या? यही सोच मर्दों की बन चुकी है कि अगर किसी काम को कराने के लिए अपनी बहन, बेटी और बीवी को उन के साथ सुला देंगे, तो उन का कुछ नहीं बिगड़ेगा, बल्कि उस से काम आसानी से हो जाएगा.