सरस सलिल विशेष

सवाल
मेरे घर वाले मेरी बहन की शादी निहायत एक लालची व्यक्ति से करने जा रहे हैं. लड़का इंजीनियर है. उस में कोई ऐब नहीं है पर उस के घर वाले मुंह फाड़फाड़ कर फरमाइशें कर रहे हैं और घर वाले हंसीखुशी उन्हें पूरा कर रहे हैं. मैं ने 1-2 बार एतराज किया तो मांबाप का कहना है कि हमारी बिरादरी में लेनदेन आम है. बाद में वे शिकायत करें कि उन्हें मनमाफिक सामान नहीं मिला, उस से अच्छा है कि पहले ही साफ और स्पष्ट बात कर ली जाए. इस में उन्हें कोई हरज नहीं लगता. वे जो भी कर रहे हैं किसी दबाव में नहीं खुशीखुशी कर रहे हैं. पता नहीं मेरे घर वाले समझ क्यों नहीं रहे?

जवाब
समाज में व्याप्त दहेज की कुप्रथा के लिए लड़के वाले ही नहीं लड़की वाले भी बराबर के कुसूरवार हैं, बल्कि लड़की वाले ज्यादा जिम्मेदार हैं, क्योंकि वे जानबूझ कर वर पक्ष की फरमाइशें पूरी करते हैं. सिर्फ उन के मांगने पर ही नहीं अपितु बिना मांगे भी तिजोरी का मुंह खोल देते हैं और जब भविष्य में उन का लालच बढ़ जाता है और वे मुंह खोल कर मांगते हैं तब दुखी होते हैं. लड़की वालों को लगता है कि दहेज ज्यादा देने से उन की लड़की ससुराल में सुखी रहेगी. आप के घर वाले यदि आप की बात नहीं मान रहे तो आप क्या कर सकते हैं.