असमानता की खाई को पाट कर और जनता के हित के लिए हर वाजिब कदम रखने वाली सरकार आज अगर भ्रष्टाचार में व्यस्त व मस्त है तो देश के लिए यह खतरे की घंटी है.