सरस सलिल विशेष

आम आदमी पार्टी ने बुधवार को राज्यसभा की तीन सीटों के लिए संजय सिंह, सुशील गुप्ता और एनडी गुप्ता को उम्मीदवार घोषित कर दिया. ‘आप’ के वरिष्ठ नेता संजय सिंह पीएसी के सदस्य हैं. सुशील गुप्ता कारोबारी हैं और एनडी गुप्ता चार्टर्ड अकाउंटेंट हैं. उम्मीदवारों की घोषणा होते ही पार्टी में घमासान मच गया. पार्टी के वरिष्ठ नेता कुमार विश्वास समेत कई नेताओं ने इस फैसले का विरोध किया.

कुमार ने खुद को एक ‘शहीद’ करार देते हुए कहा कि अरविन्द केजरीवाल के खिलाफ बोलने की वजह से उच्च सदन के लिए उनकी अनदेखी की गई. वहीं सूत्रों के मुताबिक ‘आप’ नेता आशुतोष ने भी पीएसी की बैठक में अरबपति कारोबारी के नाम पर आपत्ति जताई. वह पीएसी की बैठक में भी देर से पहुंचे.

उम्मीदवारों की घोषणा से पहले मुख्यमंत्री आवास पर ‘आप’ विधायकों की बैठक हुई. इसके बाद ‘आप’ की राजनीतिक मामलों की कमेटी (पीएसी) ने तीनों के नाम पर मुहर लगा दी. बैठक के बाद उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया ने कहा, सुशील गुप्ता ने दिल्ली-हरियाणा में शिक्षा एवं स्वास्थ्य के क्षेत्र में उल्लेखनीय कार्य किया है. वे करीब 15 हजार बच्चों को निशुल्क शिक्षा मुहैया करा रहे हैं. दूसरे उम्मीदवार, नारायण दास (एनडी) गुप्ता आईसीएआई (इंस्टीट्यूट ऑफ चार्टर्ड अकाउंटेंट ऑफ इंडिया) के पूर्व अध्यक्ष हैं. तीसरे प्रत्याशी संजय सिंह हैं जो शुरू से ही ‘आप’ के संगठनात्मक ढांचे को मजबूत कर रहे हैं.

मिलिए आम आदमी पार्टी के उम्मीदवारों से

अरबपति व्यापारी

सुशील गुप्ता कांग्रेस के टिकट पर 2013 में विस चुनाव लड़े थे, पर हार गए थे. उन्होंने अपने पास 160 करोड़ रुपये से अधिक की संपत्ति होने की घोषणा की है. निजी और परमार्थ स्कूलों की श्रृंखला चलाते हैं.

चार्टर्ड अकाउंटेंट

नारायण दास गुप्ता चार्टर्ड अकाउंटेंट हैं और इंस्टीट्यूट ऑफ चार्टर्ड अकाउंटेंट ऑफ इंडिया के अध्यक्ष रह चुके हैं. हरियाणा से ताल्लुक रखते हैं और समय समय पर पार्टीको राय देते रहे हैं.

आप कार्यकर्ता

संजय सिंह सामाजिक कार्यकर्ता रहे हैं और यूपी के सुल्तानपुर के रहने वाले हैं. वह केजरीवाल के विश्वस्त लोगों में शुमार माने जाते हैं और उनके साथ इंडिया अगेंस्ट करप्शन के आंदोलन के दिनों से ही रहे हैं.

केजरीवाल के फैसले से हैरान हूं: योगेंद्र यादव

आम आदमी पार्टी के पूर्व नेता योगेंद्र यादव ने ट्वीट किया, मैने पिछले तीन सालों में ना जाने कितने लोगों से कहा कि केजरीवाल में और जो भी दोष हों मगर कोई उसे खरीद नहीं सकता. आज क्या कहूं? हैरान हूं.

सुशील को तो पहले से जानकारी थी: माकन

राज्यसभा उम्मीदवारी पर कांग्रेस ने भी सवाल उठाया. दिल्ली कांग्रेस अध्यक्ष अजय माकन ने ट्वीट किया कि सुशील गुप्ता नवंबर के शुरू में ही अपने संभावित नामांकन के बारे में जानते थे. अन्यथा, सुशील अच्छे आदमी हैं जो अपने परमार्थ के लिए जाने जाते हैं.

जनता से विश्वासघात किया: मनोज तिवारी

सरस सलिल विशेष

भाजपा के दिल्ली प्रदेश अध्यक्ष मनोज तिवारी ने मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल पर निशाना साधा. तिवारी ने कहा कि केजरीवाल ने राज्यसभा चुनावों के लिए दो कारोबारियों को उम्मीदवार बनाकर जनता के साथ विश्वासघात किया है.

मनीष सिसोदिया, उपमुख्यमंत्री, दिल्ली सरकार

अरविन्द केजरीवाल उच्च सदन में दिल्ली का प्रतिनिधित्व करने के लिए तीन जानी-मानी हस्तियां चाहते थे. हमने मीडिया, शिक्षाविदों और कानूनविदों सहित 18 लोगों से संपर्क किया था. इसके बाद उम्मीदवारों के नाम का चयन किया गया.

कुमार विश्वास, वरिष्ठ नेता आम आदमी पार्टी

लगभग डेढ़ साल पहले केजरीवाल ने पार्टी की राष्ट्रीय कार्यकारिणी की बैठक में मुस्कान के साथ कहा था, हम आपको खत्म कर देंगे, लेकिन आपको शहीद नहीं बनने देंगे. मैं उन्हें बधाई देता हूं कि मैंने अपनी शहादत स्वीकार कर ली है.