सरस सलिल विशेष

मोबाइल और आईपैड, व्हाट्सऐप और इंस्टाग्राम, कपिल शर्मा का कौमेडी शो और डीजे के म्यूजिक के परे की दुनिया को आज जिस तरह से इग्नोर किया जा रहा है, यह अगले 5-7 साल में अपना असर दिखाने लगेगा. आज के किशोरों को इन खिलौनों के वीडियो गेम्स में मजा तो आता है पर ये सब बदन पर जंग लगाने वाले हैं, माइंड को रस्टी करने वाले हैं.

मानव की मूलभूत जरूरतों से इन का सीधा संबंध नहीं है. ये किसी को तेज नहीं बनाते, नई जानकारी नहीं देते, कुछ करने की प्रेरणा नहीं देते. टैकी होने से कोई नया कुछ ईजाद कर ले जरूरी नहीं. हो सकता है वे इन बेहद उलझी तकनीकों का पूरा लाभ उठा पा रहे हों पर वे सुख को पास ले आएं जरूरी नहीं.

इतिहास के पन्ने खोल कर देखेंगे तो पता चलेगा कि आदमी तब खुश हुआ जब उस ने उत्पादन के और तरीके ढूंढ़े. आज भी बहुतकुछ नया बन रहा है पर लग रहा है कि जनता का बड़ा हिस्सा जो नया बन रहा है उस का गलत इस्तेमाल कर रहा है.

हिंसा से भरे वीडियो गेम्स रोमांच पैदा करते हैं और किशोरों को शैतानियों से रोकते हैं, पर वे ही उन आत्मघाती हमलों के लिए तो जिम्मेदार नहीं जिन से आज दुनिया भर में खौफ है. इन खेलों में खिलाड़ी एक नहीं कईकई को मारता है और जितनों को मारता है, उतने ज्यादा अंक मिलते हैं. यही गुस्सा फेसबुक और व्हाट्सऐप पर अनर्गल गालियों में दिखता है जो दूसरे देश, धर्म, रंग वाले के लिए कही जाती हैं. यही गुस्सा अब वोटरों की पसंद में बदल रहा है. हर देश में गुस्सैलों का राज होने लगा है. जिस ने जितने मारे वह उतना ही मजबूत.

पश्चिम एशिया की स्प्रिंग रैवोल्यूशन ने ट्यूनीशिया मिस्र व लीबिया में सरकारें बदल दीं क्योंकि मोबाइल और आईपैड से लाखों को घरों से बाहर निकालना आसान था पर उन से कुछ करवाना असंभव, क्योंकि सोशल मीडिया एकदूसरे से जोड़ तो सकता है पर उन्हें जुड़वा कर उन

से कुछ बनवा नहीं सकता. सोशल मीडिया हाथ की उंगलियों की देन है, गंभीरता से विषय पर सोचनेविचारने का प्लेटफौर्म नहीं है.

अगर किशोरों को कुछ नया न करने की आदत पड़ गई तो जो कुछ पिछली 4-5 सदियों में बना है वह हाथ से फिसल जाएगा. एक बार फिसला तो फिर आएगा या नहीं, पता नहीं. टैपटैप करते मोबाइल और आईपैड जरूरी हैं पर इतने नहीं कि ताउम्र इन्हीं को सहारा बना लो. ये सिर्फ जूते हो सकते हैं जो लंबी यात्रा में साथ दें पर ये अपनेआप लंबी यात्रा पर नहीं जा सकते. इन्हें पहना और फेंक दिया वाला स्थान मिलना चाहिए, बस.