आज विश्वभर में धर्म की आग जल रही है. भारत भी पूरी तरह सुलग रहा है. धर्मजनित जातिव्यवस्था या संप्रदायों के विभाजन से आज पड़ोसी भी दुश्मन बन गए हैं.