नौकरियों के घटते अवसर और प्राइवेट स्कूलों के बढ़ते खर्चों से परेशान हो कर माता पिता एक बार फिर सरकारी स्कूलों की ओर रुख करने लगे हैं.