सरस सलिल विशेष

चीन अब पैतरे दिखाने पर उतारू नजर आ रहा है. उस को चकाचौंध कर देने वाली अमीरी का गुमान ज्यादा हो गया है. चीन में अपना राज मजबूत बनाए रखने के लिए वहां की कम्यूनिस्ट पार्टी अब ऐसे शत्रु को ढूंढ़ रही है, जिसे कालिख से पोत कर वह अपनी जनता को भटकाव में रख सके.

पहले चीन ने रूस को दुश्मन करार दिया था, अब रूस से दोस्ती हो गई है, क्योंकि रूस के रास्ते वह यूरोप के बाजारों तक पहुंचना चाहता है. पाकिस्तान से उस की दोस्ती पुरानी है. तब से जब पाकिस्तान पूरी तरह अमेरिका के पलड़े में था. वह भारत को तो 1950 से दुश्मन मान रहा है, जब भारत ने दलाई लामा की हिमायत की और 1958 में उन्हें भारत में शरण दी. तब भारत को सबक सिखाने के लिए चीन ने 1962 में उत्तरी सीमा पर हिमालय पार कर सैनिक भेज कर जवाहर लाल नेहरू की सरकार की चूलें हिला दीं.

अब भारत ने चीन की वन रोड वन बैल्ट योजना में भाग लेने से इनकार कर दिया है और रूस व जापान के साथ मिल कर चीन का मुकाबला करने का फैसला किया है, तो सिक्किम व भूटान के पठारी इलाकों, जिन्हें डोकलाम के नाम से जाना जा रहा है, पर चीन हक जमा रहा है. चीन का आरोप है कि भारतीय सैनिक टुकड़ी ने चीनी इलाके में घुसपैठ की है.

चीन अब तिब्बत की तरफ से लड़ाई की तैयारी में लगा है. भारत की फौजें भी इस इलाके में हैं. चीन के लिए इस मामले में लड़ाई करना काफी फायदे में हो सकता है. उसे सीमा से सटे अपने दूसरे देशों को जताना है कि चीन आर्थिक मोरचे पर ही नहीं, बल्कि सैनिक मोरचे पर भी अब दुनिया का सब से बड़ा देश बनने वाला है. अगर उस की बात नहीं मानी गई, तो वह जबरन मनवा सकता है.

भारत को चीन की इस धींगामुस्ती का तो मुकाबला करना ही होगा, चाहे कोई भी कीमत हो. आमतौर पर इस तरह की खटपट बातचीत से सुलझ जाती है, पर दुनिया के बदलते ताकत के नक्शे की मांग है कि चीन अमेरिका, भारत और जापान से उलझ कर जता दे कि वह ही सब से ताकतवर है. भारत की चीन से चाहे लड़ाई की कोई मंशा न हो, फिर भी अगर चीन न माना तो उसे जवाब तो देना ही होगा.

चीन बारबार 1962 की बात दोहरा रहा है, पर 1962 और 2017 के भारत में बहुत फर्क है. तब हम खाना भी भीख मांग कर खाते थे, आज अरबों रुपए का खाना बाहर बेचते हैं. हमारे पास पहले उधार चढ़ा रहता था, आज विदेशी मुद्रा का बड़ा भंडार है. भारत अब कोई छोटामोटा गरीब देश नहीं है. वह तीसरे नंबर की आर्थिक ताकत बनने वाला है. चीनभारत युद्ध दोनों के लिए महंगा होगा, यह पक्का है.