सरस सलिल विशेष

युवा कसबों और गांवों से बुरी तरह शहरों और मैट्रोज में आ रहे हैं जहां शिक्षा के अवसर और कमाई के रास्ते तो हैं ही, खुलापन भी है जो उन के गांवकसबे में बिलकुल नहीं है. धर्म, जाति, भाषा के बंधनों से दूर युवा शहरों में आ जाते हैं पर ज्यादातर को सस्ते इलाकों में रहना पड़ता है, क्योंकि शहर बेहद महंगे और औसत युवा के लिए गांवकसबे की कमाई या बचत के बाहर के होते हैं.

युवाओं और मजदूरों की भरमार के कारण इन शहरों पर बेहद दबाव बढ़ रहा है और शहर दिनबदिन बदबूदार व प्रदूषित होते जा रहे हैं. गांवों की साफ हवा के आदी युवा शहर की जहरीली हवा में बीमार हो जाते हैं और दवाइयों पर निर्भर हो जाते हैं.

एक तरह से दुष्चक्र चल रहा है. चूंकि शहरों में मजदूर सस्ते मिल जाते हैं और मालिकों को कारखाने और सर्विस सैंटर बनाने में आसानी होती है तो वे शहरों में ही नौकरियों के अवसर दे रहे हैं और चूंकि अवसर शहरों के ही हैं, युवाओं को शहर आ कर भविष्य का दांव अपनाना पड़ता है और फिर शहर गंदे होते जाते हैं. हर शहर में गंदे इलाके बड़ी तेजी से बढ़ रहे हैं.

शहरों में प्रदूषण आज इस कारण बढ़ रहा है कि सड़कों, सीवरों, सफाई का इंतजाम बढ़ती आबादी के अनुसार करना कठिन होता जा रहा है. शहरों में कुछ लोग अमीर हो जाते हैं, सरकार को ज्यादा आबादी के शहरों से आय अधिक होने लगती है लेकिन नगर निकायों की आमदनी का स्रोत न के बराबर बढ़ता है जिस का असर शहर की गंदगी से सीधा जुड़ा है.

हर शहर के खाली इलाकों, आसपास के खेतों, जंगलों और यहां तक कि नदीनालों पर भी रहने के कच्चेपक्के मकान बन गए हैं. जहां 1,000 लोग रहने चाहिए वहां 5,000 रहने लगे हैं तो प्रदूषण होगा ही. रोनेधोने से काम नहीं चलेगा क्योंकि न सरकार शहरों में किसी को आने से रोक सकती है न मांग के अनुसार सुविधाओं को तुरंत जुटा सकती है.

यह प्रदूषण तो अब जिंदगी का हिस्सा बन गया है और हमारी संस्थाएं चाहे जो मरजी हो कर लें, कुछ नहीं कर सकतीं. अब गांवों को सुधारने की तो बात करता भी कोई नहीं है क्योंकि वहां जो लोग बचे हैं वे निम्न जातियों के हैं और यह देश उन बहुमत वाली नीची जातियों के बारे में सोचने को तैयार तक नहीं. सो, शहरी प्रदूषण के लिए तैयार रहें, हरदम, फिट या अनफिट.

VIDEO : रोज के खाने में स्वाद जगा देंगे ये 10 टिप्स

ऐसे ही वीडियो देखने के लिए यहां क्लिक कर SUBSCRIBE करें गृहशोभा का YouTube चैनल.