सरस सलिल विशेष

VIDEO : फेस मेकअप का ये तरीका है शानदार

ऐसे ही वीडियो देखने के लिए यहां क्लिक कर SUBSCRIBE करें गृहशोभा का YouTube चैनल.

हरियाणा,छत्तीसगढ़, राजस्थान, तेलंगाना, मध्य प्रदेश और हिमाचल प्रदेश  आदि राज्यों की सरकारों ने कहा है कि उन्हें नए इंजीनियरिंग कालेजों की जरूरत नहीं है. हर राज्य में पहले से निर्धारित सीटों में से आधी से ज्यादा खाली हैं. इंजीनियरिंग कालेजों की आर्थिक स्थिति डगमगा रही है. इन निजी कालेजों को छात्रों की फीस पर निर्भर रहना पड़ता है और कम छात्रों का अर्थ है कि कम छात्रों को पूरी फैकल्टी व विशाल इंफ्रास्ट्रक्चर का आर्थिक बोझ उठाना पड़ेगा.

देश के 3,291 इंजीनियरिंग कालेजों की 15.5 लाख सीटों में से आधी का खाली रहना बताता है कि देश के युवाओं का भविष्य संकट में है. इंजीनियरिंग स्किल देश की उन्नति में अनिवार्य है और इंजीनियर का कैरियर अब तक एक अच्छा व स्थायी माना जाता था. इंजीनियरों की घटती मांग और महंगी होती इंजीनियरिंग की शिक्षा का अर्थ है कि देश के कारखानों की हालत भी खराब है और मेक इन इंडिया केवल थोथा मंत्र है.

इंजीनियरिंग वास्तव में हमारी सोच के खिलाफ है. हम ठहरे विश्वगुरु, हम भला लोहे से काम क्यों करेंगे. हमारे यहां तो अच्छी नौकरियां पटवारी, हवलदार, इंस्पैक्टर, छोटे अफसर, क्लर्क, बाबू की हैं. कंप्यूटर हमें सुहाता है क्योंकि उस में हाथ काले नहीं करने पड़ते.

इंजीनियरों को मैले कारखानों में काम करना पड़ता है. उन्हें गरम या ठंडे मौसम में बिना सुखसुविधा के रहना पड़ता है. उन का वास्ता शूद्रों व दलितों से पड़ता है जिन्हें हमारे शासक न जाने क्याक्या कहते हैं. उन्हें पुचकार कर इंजीनियरों को उन से काम लेना पड़ता है.

किसी भी देश का विकास उस के इंजीनियरों के बलबूते होता है, ऐडमिनिस्ट्रेटरों, फाइनैंशियल एनालिस्टों, एमबीओं, बाबुओं, पटवारियों से नहीं. ये लोग केवल उन सामानों के निर्माण का लाभ उठाते हैं, वितरण करते हैं या उन की कीमत निर्धारित करते हैं जो इंजीनियरों ने बनाए. देश में इंजीनियर नहीं हैं, तभी हम जुगाड़ संस्कृति के गुणगान गाते हैं क्योंकि हमें मैकेनिकों से वे काम लेने पड़ते हैं जो इंजीनियरों के लायक हैं.

इंजीनियरों की हमें पगपग पर जरूरत है. हमारे यहां कोई मकान सीधा नहीं बनता, कोई धार सीधी नहीं खिंचती क्योंकि हमारे यहां प्रशिक्षित व योग्य इंजीनियर हैं ही नहीं. यहां इंजीनियरों का इतना अभाव है कि सरदार वल्लभभाई पटेल की मूर्ति चीन में ढाली जा रही है. सरकारी विभागों के इंजीनियर हेराफेरी में ज्यादा लगे रहते हैं, कमीशन खाना उन का मुख्य काम होता है. हालांकि, अब ये नौकरियां कम भी होती जा रही हैं.

रेलों, सड़कों, मकानों की दुर्घटनाओं की वजह इंजीनियरों या इंजीनियरिंग मस्तिष्क की कमी का होना है. अगर इंजीनियरिंग कालेजों में सीटें नहीं भर रहीं, तो देश को चौकन्ना होना चाहिए. लेकिन यहां तो गौपूजा, गौमूत्र और गंगा मैया का गुणगान हो रहा है. ऐसे देश में तो इंजीनियरिंग कालेजों की जगह वैदिक यज्ञशालाओं के निर्माण की शास्त्रीय विधि में ज्यादा आस्था रहती है. इस पर भी पंडों की पुश्तैनी जमातों का ही एकाधिकार है. इंजीनियर तो केवल थोड़े ऊंचे मिस्त्री हैं, राज या मैकेनिक की तरह के.