सरस सलिल विशेष

बिहार में इस बार जो हिंदूमुसलिम दंगे हो रहे हैं वे उन इलाकों में भी हो रहे हैं जहां कभी नहीं हुए. यह भारतीय जनता पार्टी के कट्टरपंथी पंडावादियों की चाल है कि मुसलमानों के नाम पर कुछ दबंग हिंदुओं को उकसा कर उन्हें दलितों और अतिपिछड़ों को काबू में करने के लिए इस्तेमाल करा जा सके.

बिहार, पश्चिम बंगाल, ओडिशा के मुसलमानों में बहुत ही कम ऐसे हैं जिन के पुरखे 800 से 1000 साल पहले सिंध नदी की दूसरी तरफ से आए हों. यहां के मुसलमान ज्यादातर अछूत और शूद्र यानी पिछड़े हैं जिन्हें सदियों से पंडावादी राजाओं और गांवों के मुखियाओं ने गुलामों की तरह रखा था. जब मुसलमानों ने इन इलाकों पर राज करना शुरू किया तो ये मुसलिम बन कर अत्याचार से छूटे.

बंगलादेश इसी की देन है. अब जो करोड़ों मुसलमान इस इलाके में बचे हैं वे शूद्रों यानी पिछड़ों व अछूतों यानी दलितों के साथ के हैं, दोनों में आपसी गठजोड़ है. भारतीय जनता पार्टी उसे तोड़ना चाहती है. लालू प्रसाद यादव ने इन्हें जोड़ा था. इस से पहले गांधी और कांग्रेस ने इन्हें एक तरह से पटा कर रखा था.

नीतीश कुमार यह सब जानते हैं पर कांग्रेस और लालू प्रसाद यादव से उन की नहीं बनी इसलिए ज्यादातर भारतीय जनता पार्टी की गोद में बैठे रहे. अब तक उन की सुनी जाती थी पर अब पौराणिक राज दोबारा थोपने की जल्दबाजी में भगवाई चौधरी मुसलमानों पर हमले कर के उन्हें और दलितों को जता रहे हैं कि मान जाओ वरना तुम्हें तुम्हारे ही लोगों से पिटवा दिया जाएगा.

सदियों से दलितों और दलितों से बने मुसलमानों पर उन्हीं के कुछ लोगों को लाठी, बल्लम दे कर और डरा कर या रिश्वत दे कर लड़ने को तैयार करा जाता था. काफी तो धर्म की एकदो छूट पा कर धन्य हो जाते थे कि अपनों या अपनों से कुछ नीचों को पीटपाट कर वे पिछले जन्मों के पाप धो सकेंगे. हरेक को पट्टी पढ़ा दी जाती है कि रावण पिछले जन्मों का पापी था और उसे मार कर राम को देवता का पद मिला था. आज वे धर्म की रक्षा करेंगे तो उन का जीवन और अगला जन्म सुधर जाएगा.

उन का जन्म सुधरे या नहीं नीतीश कुमार का यह जन्म पापपुण्य, अगड़ेपिछड़ेदलित, हिंदूमुसलमान की चक्करबाजी में नष्ट हो रहा है, यह दिख रहा है. पिछले कई सालों में वे बेचारे से हो गए हैं. कभी भाजपा की गोद उन्हें चुभती है तो कभी लालू प्रसाद यादव की. बातें तो वे बड़ीबड़ी बनाते हैं पर बिहार का कुछ कराधरा नहीं. लालू को जेल में जरूर भिजवा दिया और वे शायद ज्यादा जिंदा भी न रह पाएं पर इस के अलावा वे बिहार में कुछ ज्यादा कर रहे हों, ऐसा नहीं लगता.

इतिहास और पुराणों से कुछ नहीं सीख पा रहे हैं नीतीश इसीलिए नालंदा में हिंदूमुसलिम दंगों की झड़ी लग गई है. एक राज्य या देश का निर्माण गृहयुद्ध के माहौल में नहीं होता. अब राज्य में उत्पादन की जगह खूनखराबा पैदा हो रहा है. जय हिंदू जय राम के नारे लग रहे हैं. जय भारत जय बिहार गया भाड़ में.

VIDEO : कलरफुल स्ट्रिप्स नेल आर्ट

ऐसे ही वीडियो देखने के लिए यहां क्लिक कर SUBSCRIBE करें गृहशोभा का YouTube चैनल.