सरस सलिल विशेष

पंजाब के बठिंडा जिले के कोटफत्ता का एक इलाका है वड्डा खूह (बड़ा कुआं) यहीं के वार्ड नंबर- 3 के एक घर में 8 मार्च, 2017 को शाम करीब 5 बजे बड़ा ही भयावह और दिल दहला देने वाला मंजर था. मंजर भी ऐसा, जिसे देख कर पत्थरदिल इंसान की भी आत्मा कांप उठे. घर के एक कमरे का दृश्य बड़ा ही रहस्यमय और डरावना था. उस समय उस कमरे में कई लोग थे, उन के अलावा वहां पर 2 मासूम बच्चे भी बैठे थे. कमरे के बीचोंबीच एक धूना (हवनकुंड) था, जिस में आग जल रही थी. कमरे के दरवाजे और खिड़कियां सब बंद थे.

एक अधेड़ औरत जिस की उम्र करीब 55 साल थी, वह हवनकुंड के पास की एक गद्दी पर बैठी थी. वह शायद अंदर बैठे लोगों की मुखिया थी. वह औरत अपने सिर को इधरउधर झुलाते हुए जोरजोर से कोई मंत्र पढ़ कर उस हवनकुंड में सामग्री डाल रही थी. वहां मौजूद अन्य लोग भी उस का अनुसरण करते हुए मंत्रों के साथ धूने में हवन सामग्री डाल रहे थे. इस क्रिया के बीचबीच में वह औरत जोरजोर से ऊपर की ओर देखते हुए अट्टहास करने लगती.

उस के पास बैठा लगभग 30 वर्षीय पुरुष भी अपनी गरदन ऊंची कर के अपने मुंह से जोरजोर से सांप के फुफकारने जैसी शू..शू.. की आवाज निकालता.

धूनी में एक चिमटा रखा हुआ था जो आग से काफी गरम हो गया था. वह अधेड़ उम्र की महिला इस क्रिया के बीचबीच में उस गरम चिमटे से वहां बैठे 2 मासूम बच्चों को मारने लगती थी. उन दोनों बच्चों में एक की उम्र 5 साल और दूसरे की करीब 2 साल थी. गरम चिमटा लगते ही दोनों बच्चे पीड़ा से बिलबिला उठते थे.

दोनों बच्चों की पीड़ा पर वह औरत दुखी होने के बजाय खुश होती. वहां जो और लोग बैठे थे, वे जोश के साथ तांत्रिक क्रिया पूरी करने में लगे हुए थे इसलिए बच्चों के चिल्लाने की तरफ उन्होंने कोई ध्यान नहीं दिया.

वे लोग आगे क्या करने वाले थे, यह कहना मुश्किल था लेकिन उन के चेहरे के भाव और उन के क्रियाकलाप देख कर इतना अनुमान तो लगाया जा सकता था कि उन के इरादे नेक नहीं थे.

खिड़की की झिर्री से यह भयानक दृश्य देख कर 65 वर्षीय मुख्तियार सिंह की आत्मा सिहर उठी. कुछ देर तक वह खिड़की के पास गुमसुम सा खड़ा सोचता रहा कि उसे क्या करना चाहिए. 2 मासूम बच्चों की जिंदगी का सवाल था.

आखिर उस ने जोरजोर से कमरे का दरवाजा खटखटाना शुरू कर दिया. काफी देर दरवाजा पीटने पर भी कमरे में बैठे लोग अपनीअपनी जगह से नहीं हिले तो उस ने अपनी बहू रोजी के कमरे की ओर देखा. पर उस के कमरे पर ताला लगा हुआ था.

मुख्तियार रोजी के बंद कमरे की खिड़की के पास गया तो उसे कमरे में रोजी बैठी दिखाई दी. रोजी उस के बेटे की पत्नी थी. वह उस से बोला, ‘‘तुम्हें यहां किस ने बंद किया है? ताले की चाबी कहां है?’’

‘‘मैं कमरे में लेटी थी तो पता नहीं कौन बंद कर के चला गया. बच्चे भी पता नहीं कहां हैं. उन के रोने और चीखने की आवाजें आ रही हैं. पता नहीं वे क्यों रो रहे हैं.’’ कहते हुए उस की आंखों में आंसू छलक आए.

रोजी को पता था कि उस की सास निर्मल कौर व परिवार के अन्य लोग उस के दोनों बच्चों के साथ 2 दिन से तांत्रिक क्रियाएं कर रहे थे. उसे डर था कि वे लोग कहीं आज भी बच्चों पर तांत्रिक क्रियाएं तो नहीं कर रहे.

दरअसल, जिस बंद कमरे में यह तांत्रिक अनुष्ठान हो रहा था, उस कमरे में रोजी की सास निर्मल कौर, पति कुलविंदर सिंह, देवर जसप्रीत, ननद गगन कौर तथा बठिंडा के ही गांव दयोन से 3-4 तांत्रिक आए हुए थे जोकि निर्मल कौर की तांत्रिक क्रियाएं संपन्न करवाने में मदद कर रहे थे.

निर्मल कौर पिछले 5-6 सालों से अपने घर पर तंत्रमंत्र द्वारा समस्याओं का समाधान करने के नाम पर लोगों को बेवकूफ बना रही थी. गांव के अंधविश्वासी और भोलेभाले लोगों के अलावा शहर के पढ़ेलिखे लोग भी उस के पास आया करते थे. निर्मल कौर से पहले उस का पति मुख्तियार सिंह यह काम करता था. वैसे मुख्तियार सिंह बठिंडा की फौजी छावनी में नौकरी करता था.

लगभग 4-5 साल पहले वह अपने घर पर ही तंत्रमंत्र की क्रियाएं करता था. धीरेधीरे लोग अपनी समस्याएं ले कर उस के पास आने लगे. उन में से कुछ को फायदा हुआ तो वे उसे प्रसाद के लिए पैसे देने लगे थे. उन पैसों से उस के घर की कुछ जरूरतें पूरी हो जाया करती थीं.

पता नहीं मुख्तियार सिंह को क्या सूझी कि उस ने झाड़फूंक सब बंद कर दिया. इस के बाद उस की पत्नी निर्मल कौर ने उस की गद्दी संभाल कर झाड़फूंक करना शुरू कर दिया. वह बाकायदा व्यापारिक तरीके से काम करने लगी.

निर्मल कौर को 2 साल में ही बहुत अच्छा तजुर्बा हो गया. इस के बाद उस ने यह प्रचारित करना शुरू कर दिया कि उस की आत्मा परमात्मा से मिल कर एकाकार हो गई है. अब उस ने खुद को देवी घोषित कर दिया था.

निर्मल कौर अपने बड़े बेटे कुलविंदर सिंह उर्फ विक्की को भी अपने साथ रखती थी. वह भी मां के साथ अलग गद्दी पर बैठने लगा था. एक साल बाद उस ने खुद के बारे में यह प्रचारित करना शुरू कर दिया कि पूजापाठ से खुश हो कर भगवान विष्णु ने उसे अपने शेषनाग की आत्मा दे दी है.

अंधविश्वासी लोगों की वजह से मांबेटे का धंधा खूब फलफूल रहा था. जबकि वास्तविकता यह थी कि उन के पास न तो कोई सिद्धि थी और न ही उन्हें किसी तंत्रमंत्र के कखग का पता था.

बठिंडा के रहने वाले मल्ल सिंह बेहद गरीब इंसान थे. उन के 7 बेटे थे. जैसेतैसे मजदूरी कर के वह अपने परिवार को पाल रहे थे. गरीबी की वजह से वह बच्चों को पढ़ालिखा नहीं सके पर समय के साथ जैसेजैसे बच्चे बड़े होते गए, वह उन से भी मजदूरी कराने लगे. वह 2-3 बेटों की शादी कर पाए थे कि उन की मृत्यु हो गई. बाकी की शादी बाद में हो गई थी. उन का सब से बड़ा बेटा लाभ सिंह था और छोटा मुख्तियार सिंह. मुख्तियार की उम्र इस समय करीब 65 साल है.

लाभ सिंह और मुख्तियार सिंह दोनों के मकान सटे हुए थे. मुख्तियार के परिवार में पत्नी निर्मल कौर के अलावा 2 बेटे और 2 बेटियां थीं. बड़े बेटे कुलविंदर उर्फ विक्की की शादी रोजी से हो गई थी. बाद में रोजी 2 बच्चों की मां बनी, जिस में 5 साल का बेटा रंजीत सिंह और 3 साल की बेटी अनामिका थी.

मुख्तियार सीधासादा आदमी था, इसलिए घर को निर्मल कौर ही संभाले हुए थी. उस ने अपनी दोनों बेटियों गगन कौर और अमन कौर की भी शादी कर दी थी. निर्मल कौर एक जिद्दी और दबंग प्रवृत्ति की महिला थी. दूसरे जब वह गद्दी पर बैठती तो खुद को देवी ही समझती थी, इसलिए लोग उसे बहुत सम्मान देते थे. निर्मल कौर का जेठ जोकि उस के एकदम बराबर में ही रहता था, वह निर्मल के क्रियाकलापों को ढोंग मानता था. इसी वजह से वह उस से कोई खास वास्ता नहीं रखता था.

निर्मल कौर की छोटी बहन प्रेमलता लुधियाना में दर्शन सिंह के साथ ब्याही थी. पिछले साल से वह लगातार बीमार चल रही थी. उस ने पीजीआई चंडीगढ़ में भी अपना इलाज करवाया था पर कोई फायदा नहीं हुआ था. डाक्टरों ने बताया था कि उसे कोई बीमारी नहीं है. वह एकदम फिट है. जबकि प्रेमलता का कहना था कि वह बीमार है.

दूसरे निर्मल कौर की बेटी गगन कौर शादी के 6 साल बाद भी मां नहीं बन सकी थी. डाक्टरों ने उस की व उस के पति की कई जांच करने के बाद पाया कि गगन और उसके पति शारीरिक रूप से स्वस्थ हैं. स्वस्थ होने के बावजूद उन के आंगन में बच्चे की किलकारी नहीं गूंज रही थी.

तमाम लोग गगन की मां निर्मल कौर के पास अपनी समस्याएं ले कर आते थे. वे उसे देवी समझते थे. निर्मल कौर अपनी बहन और बेटी की समस्या भी दूर करना चाहती थी. एक दिन अपनी गद्दी पर बैठ कर निर्मल कुछ देर के लिए ध्यानमग्न हो गई.

कमरे में बहन प्रेमलता और बेटी गगन कौर बैठी थीं. कुछ देर बाद निर्मल ने अपनी आंखें खोल कर बताया, ‘‘मुझे सब साफसाफ दिखाई दे रहा है कि तुम्हारी दोनों की समस्या कैसे पैदा हुई और वह कैसे दूर होगी.’’

इतना सुनते ही गगन कौर और प्रेमलता उसे गौर से देखते हुए बोलीं, ‘‘अब क्या करना होगा बाबाजी?’’

जिस समय निर्मल कौर अपनी गद्दी पर बैठी होती थी, उस समय सभी उसे बाबाजी कह कर संबोधित करते थे. वह बोली, ‘‘बच्चा, तुम्हें कुछ नहीं करना है. अगले हफ्ते से हम खुद सभी काम संपूर्ण करेंगे. इस एक हफ्ते में हम पूरा इंतजाम कर लेंगे. दोनों के जीवन में खुशियां ही खुशियां होंगी. उस ने गगन कौर से भी कहा कि उस के 5 बेटे होंगे.’’

अगले दिन निर्मला अपने बेटे कुलविंदर को साथ ले कर हरियाणा के सिरसा जिले के गांव कालांवाली मंडी चली गई. वहां पर एक तथाकथित तांत्रिक लखविंदर सिंह उर्फ लक्की बाबा रहता था. पूरे दिन निर्मल कौर और लक्की बाबा की आपस में मंत्रणा चलती रही.

अगले दिन लक्की बाबा निर्मल कौर के घर आ गया. लक्की बाबा, निर्मल कौर और कुलविंदर उर्फ विक्की दिन भर गद्दी वाले कमरे में बैठ कर न जाने क्या पूजापाठ करते थे. यह बात 2 मार्च, 2017 की है.

पूजापाठ समाप्त कर के शाम को लक्की बाबा अपने गांव चला गया. इस के 2 दिन बाद निर्मल कौर ने पास के गांव दयोन से 4 अन्य तथाकथित तांत्रिकों को अपने घर बुलवाया और 2 दिनों तक उन के साथ पूजापाठ करती रही. सभी पूजापाठ की क्रियाओं में केवल निर्मल का बेटा कुलविंदर ही शामिल होता था. उस के अलावा घर के किसी अन्य सदस्य को गद्दी वाले कमरे में जाने की इजाजत नहीं थी.

6 मार्च को निर्मल ने अपनी बहन प्रेमलता और बेटी गगन को भी बुलवा लिया था. अगले दिन उस ने प्रेमलता को कुछ समझा कर वापस उस की ससुराल लुधियाना भेज दिया. जबकि गगन कौर अपनी मां के पास ही रुक गई थी.

इन सब से पहले 5 मार्च को निर्मल ने अपने दोनों पोतेपोती को अपने कमरे में कैद कर लिया था. पूजापाठ के दौरान ये लोग सभी बच्चों की झाड़फूंक करते और उत्तेजित हो कर कभी उन्हें थप्पड़ मारते, कभी बाल नोचते तो कभी चिमटे मारते थे. बच्चे जोरजोर से चीखते चिल्लाते थे.

निर्मल कौर के पड़ोसियों सहित बच्चों की मां रोजी भी जानती थी कि बंद कमरे में झाड़फूंक के नाम पर बच्चों के साथ अत्याचार हो रहा है पर किसी की इतनी हिम्मत नहीं थी कि कोई इस अत्याचार को रोक सके. बड़ी बात तो यह थी कि खुद बच्चों का पिता कुलविंदर सिंह भी इस अत्याचार में शामिल था. यहां तक कि बच्चों के चाचा जसप्रीत, बुआ गगन कौर, अमन कौर और दादा मुख्तियार सिंह भी अच्छी तरह जानते थे कि बंद कमरे में दोनों मासूमों पर कैसेकैसे अत्याचार हो रहे हैं. लेकिन वे कुछ नहीं कर सकते थे.

8 मार्च को मुख्तियार सिंह ने जब खिड़की की झिर्री से कमरे के भीतर का दृश्य देखा तो उस की अंतरात्मा कांप उठी. हिम्मत कर के वह अपने बडे़ भाई लाभ सिंह के पास पहुंचा और उसे सारी बातें विस्तार से सुनाते हुए कहा, ‘‘वीरजी, मेरे को ऐसा लगता है कि कमरे में बैठे सभी लोग कोई नशा किए हुए हैं. उन के होशहवास कायम नहीं हैं. मैं तो दरवाजा बजाबजा कर हार गया हूं.’’

मुख्तियार सिंह और लाभ सिंह घर के बाहर खड़े आपस में बातें कर ही रहे थे कि तभी वहां कुछ पड़ोसी और गांव वाले भी जमा हो गए. अब उस बंद कमरे से दोनों बच्चों के चीखने की तेजतेज आवाजें आनी शुरू हो गई थीं. तभी लाभ सिंह व गांव के कुछ लोग उस बंद कमरे की ओर दौड़े.

जोर से धक्के मारमार कर उन्होंने खिड़की का एक पल्ला खोल लिया था. जब उन्होंने खिड़की से भीतर देखा तो उन के पैरों तले से जैसे जमीन खिसक गई और सांसें जहां की तहां रुक सी गईं. अंदर का दृश्य दिल को दहला देने वाला था.

सब ने देखा कि मंत्रोच्चारण करते हुए निर्मल कौर और कुलविंदर सिंह दोनों बच्चों को गर्म चिमटे से बुरी तरह पीट रहे थे. अपने बचाव में दोनों बच्चे कमरे में इधरउधर भागने की कोशिश कर रहे थे, लेकिन बारबार नीचे गिर पड़ते थे. अचानक मंत्र पढ़ते हुए निर्मल ने एक मुट्ठी सामग्री भर कर धूने में जोर से फेंकते हुए ‘फट्ट स्वाहा’ कहा और साथ ही बच्चों की ओर अपनी अंगुली उठा दी.

निर्मल कौर का संकेत मिलते ही कुलविंदर ने बारीबारी दोनों बच्चों को पकड़ कर जमीन पर औंधे मुंह लेटा दिया. दोनों मासूम बुरी तरह तड़प रहे थे और छूटने का असफल प्रयास कर रहे थे. एकाएक मंत्र पढ़ते हुए निर्मल कौर अपनी गद्दी से उठी और झूमते हुए किसी मस्त हाथी की तरह झूमते हुए औंधे मुंह जमीन पर पड़े मासूम की पीठ पर सवार हो कर जोरजोर से अट्टहास करने लगी. साथ ही उस ने बच्चे के सिर के बालों को पकड़ कर खींचते हुए उस का चेहरा जमीन पर जोरजोर से पटकना शुरू कर दिया. फिर उस ने कुलविंदर की ओर देखते हुए जोर से कहा, ‘‘शेषनाग… सवारी करो.’’

मां का आदेश मिलते ही कुलविंदर उलटा लेट गया और अपनी गरदन ऊंची कर सांप की तरह ही जमीन पर रेंगते हुए धीरेधीरे अपनी 3 वर्षीय बेटी अनामिका की ओर बढ़ने लगा. अनामिका के निकट पहुंच कर उस ने सांप की ही तरह जोर से फुफकारा और औंधे मुंह लेटी अपनी मासूम बच्ची की पीठ पर सवार हो कर जोरजोर से उछलने लगा.

यह सब देख कर लाभ सिंह और मुख्तियार सिंह सिहर उठे. कमरे के अंदर मौजूद लोग आवाज देने पर भी दरवाजा नहीं खोल रहे थे, इसलिए दोनों भाई गांव के कुछ लोगों के साथ थाना कोटफत्ता की ओर दौड़े. थाने पहुंच कर उन्होंने थानाप्रभारी कृष्णकुमार को सब कुछ बता दिया.

तंत्रमंत्र के नाम पर वे लोग बच्चों के साथ कुछ अनर्थ न कर दें, इसलिए थानाप्रभारी अपने साथ एएसआई दर्शन सिंह, गुरप्रीत सिंह, हैडकांस्टेबल राजवंत सिंह, अजैब सिंह, कांस्टेबल लखविंदर सिंह, लेडी कांस्टेबल अमनदीप कौर और मनप्रीत कौर को साथ ले कर तुरंत घटनास्थल की ओर रवाना हो गए. पर पुलिस टीम के पहुंचने के पहले ही दोनों मासूमों ने उन दरिंदों के अत्याचार न झेल पाने के कारण तड़पतड़प कर अपने प्राण त्याग दिए.

जिस समय लाभ सिंह और मुख्तियार सिंह पुलिस के साथ अपने घर पहुंचे, तब तक देर हो चुकी थी. निर्मल कौर और उस का बेटा कुलविंदर सिंह दोनों मृत मासूमों के मुंह में ट्यूबलाइट का कांच ठूंस रहे थे. थानाप्रभारी कृष्ण कुमार ने जब निर्मल को रोकना चाहा तो वह दहाड़ते हुए बोली, ‘‘खबरदार, नजदीक आने की कोशिश की तो मैं तेरा सर्वनाश कर दूंगी. मैं देवी हूं. अभी मैं इन दोनों को जिंदा कर दूंगी. इस के बाद न प्रेमलता कभी बीमार होगी और न ही गगन कौर संतानहीन रहेगी.’’

पुलिस के पहुंचने पर गांव के तमाम लोगों के अलावा महिलाएं भी इकट्ठी हो गई थीं. थानाप्रभारी के आदेश पर लेडी पुलिस ने गांव की ही कुछ महिलाओं की मदद से निर्मल कौर को काबू किया. पुलिस ने तुरंत दोनों बच्चों की लाशें अपने कब्जे में ले लीं. एएसआई दर्शन सिंह ने निर्मल कौर, कुलविंदर सिंह और अन्य लोगों को गाड़ी में बिठा लिया. तब तक यह खबर पूरे कोटफत्ते में फैल गई थी.

इस के बाद लोगों की भीड़ ने पुलिस की गाड़ी को घेर लिया. लोग उन दोनों मांबेटे को अपने हाथों से सजा देना चाहते थे. वास्तव में उस समय भीड़ इतनी आक्रोशित थी कि यदि वे दोनों भीड़ के हत्थे चढ़ जाते तो पीटपीट कर उन की हत्या कर दी जाती. थानाप्रभारी ने लोगों को समझाना चाहा पर लोग उन की कोई बात सुनने को तैयार नहीं थे. लोगों की पुलिस से झड़प तक हो गई.

अतिरिक्त पुलिस बल मंगवा कर बड़ी मुश्किल से उन्हें निकाल कर थाने पहुंचाया तो पब्लिक ने थाने को घेर लिया. हालात बेकाबू होता देख थानाप्रभारी ने एसएसपी स्वप्न शर्मा को हालात से अवगत करा दिया. इस के बाद कुछ ही देर में कई थानों की पुलिस वहां पहुंच गई. एसएसपी स्वप्न शर्मा, एसपी विनोद कुमार, डीएसपी कुलदीप सिंह सोही सहित कई आला अधिकारी भी मौके पर पहुंच गए. पुलिस अधिकारियों के काफी समझानेबुझाने के बाद करीब आधी रात को मामला शांत हुआ. पुलिस कुलविंदर की बीवी रोजी को भी पूछताछ के लिए अपने साथ ले गई.

तमाशा 8 तारीख की आधी रात तक चलता रहा. रात लगभग सवा 12 बजे इंसपेक्टर कृष्ण कुमार ने लाभ सिंह द्वारा पहले दी गई तहरीर के आधार पर भादंवि की धारा 302, 34 के अंतर्गत दोनों मासूम बच्चों रंजीत सिंह और अनामिका की बेरहमी से की गई हत्या का मुकदमा दर्ज कर लिया.

निर्मल कौर और कुलविंदर सिंह उर्फ विक्की तथा उस की पत्नी रोजी कौर को उसी समय गिरफ्तार कर के पूछताछ के लिए जिला मुख्यालय औफिस ले जाया गया. अगले दिन पूछताछ के बाद दोनों मांबेटे को तलवंडी साबो की जिला अदालत में पेश किया.

पुलिस ने निर्मल कौर के कमरे से तंत्रमंत्र का सामान, चिमटा आदि बरामद कर लिया. साथ ही कमरे से काफी मात्रा में नशीला पदार्थ भी बरामद किया.

अकाल गुरमति प्रचार कमेटी के मंजीत सिंह खालसा, सिख फेडरेशन के परणजीत सिंह जग्गी, भारतीय किसान क्रांतिकारी यूनियन के अध्यक्ष सुरजीत सिंह फूल, भारतीय किसान यूनियन (टिकैत) के पंजाब प्रभारी तथा तर्कशील सोसायटी भूरा सिंह महमा व जीरक सिंह सहित शहर के अन्य लोगों ने एसपी कार्यालय का घेराव कर मांग की कि बच्चों की मां रोजी कौर को इस मामले से बाहर रखा जाए, क्योंकि वह निर्दोष है.

जबकि एसपी विनोद कुमार और डीएसपी कुलदीप सिंह सोही का कहना था कि पिछले 4 दिनों से यह सब तमाशा उस की आंखों के सामने चल रहा था. यदि वह चाहती तो पहले ही पुलिस की सहायता ले सकती थी. इस से दोनों बच्चों की जान बच जाती.

रोजी को उस के पति और सास ने 8 मार्च को शाम के समय कमरे में बंद किया था. बंद के दौरान भी उस के पास मोबाइल फोन था. यदि वह चाहती तो पुलिस को या दूसरे लोगों को सूचित कर सकती थी. पर उस ने ऐसा नहीं किया. पुलिस को अंदेशा है कि शायद वह भी इस साजिश में शामिल थी.

पुलिस इस बात की भी छानबीन कर रही है कि मृतक बच्चों के दादा मुख्तियार सिंह की इस मामले में कितनी संलिप्तता है. 2 निर्दोष मासूमों की तंत्रमंत्र के नाम पर हुई हत्या से शहर भर में तनाव जैसा माहौल हो गया. लोगों ने बाजार बंद कर विरोध प्रकट किया तथा शहर के अन्य तांत्रिकों व बाबाओं के खिलाफ काररवाई की मांग की. पुलिस ने भी जरूरी काररवाई करते हुए तांत्रिकों की धरपकड़ शुरू कर दी.

शहर की तनावपूर्ण स्थिति को देखते हुए चप्पेचप्पे पर पुलिस तैनात कर दी गई. पोस्टमार्टम के बाद भारी पुलिस बल की मौजूदगी में दोनों बच्चों का अंतिम संस्कार किया गया. अंतिम संस्कार के बाद पुन: भीड़ ने उग्र रूप धारण कर मांग उठाई कि सिरसा के तांत्रिक लक्की बाबा उर्फ लखविंदर को भी गिरफ्तार किया जाए.

हालांकि इस घटना के समय वह वहां नहीं था पर 2 दिन पहले वहां आया था. अत: पुलिस ने लक्की बाबा की तलाश में छापेमारी शुरू कर दी. वह कहीं छिप गया था. अंत में पुलिस का दबाव बढ़ता देख कर उस ने खुद ही 19 मार्च, 2017 को थाना कोटफत्ता में आत्मसमर्पण कर दिया.

थानाप्रभारी लक्की बाबा को अदालत में पेश कर पूछताछ के लिए एक दिन के पुलिस रिमांड पर ले लिया. पूछताछ के बाद उसे अगले दिन पुन: अदालत में पेश किया, जहां से उसे न्यायिक हिरासत में भेज दिया गया.

निर्मल कौर, कुलविंदर सिंह, रोजी कौर, प्रेमलता, गगन कौर, मुख्तियार सिंह, लक्की बाबा से की गई पूछताछ से निर्मल कौर के स्वयंभू देवी बनने की जो कहानी सामने आई, उस से पता चलता है कि लोगों के अनपढ़ और अंधविश्वासी होने का फायदा उठाते हुए वह समाज में अपना वर्चस्व कायम करना चाहती थी.

लगभग 6 साल पहले मुख्तियार सिंह पूजापाठ और झाड़फूंक करता था. वह यह काम बिना किसी लालच के करता था. कुछ लोगों को फायदा होने लगा तो उस के पास आने वाले लोगों की संख्या बढ़ गई. उस की पत्नी निर्मल कौर उस से इस काम के बदले पैसे लेने की बात कहती. पति के मना करने पर वह उस से झगड़ती और आने वाले लोगों से पैसे देने के लिए खुद कहती.

मुख्तियार ने उस की एक न सुनी. तब मुख्तियार ने झाड़फूंक का काम बंद कर दिया. इस के बाद उस की पत्नी निर्मल ने गद्दी पर बैठना शुरू किया. उस ने अपने बेटे कुलविंदर सिंह को भी अपने साथ लगा लिया. फिर दोनों ने तंत्रमंत्र के नाम पर लोगों को लूटना शुरू कर दिया.

वह खुद तो नशा करती ही थी, साथ ही आने वाले लोगों को भी प्रसाद में नशा मिला कर देती थी. नशे की जद में आ कर खुद को शक्तिशाली दिखाने के चक्कर में वह खुद के ही पोतेपोती का कत्ल कर बैठी. जेल पहुंचने के बाद अपने ही हाथों अपना वंश उजाड़ने वाली निर्मल कौर और उस के बेटे कुलविंदर सिंह को अपने किए पर बहुत पछतावा है.