सरस सलिल विशेष

30 अक्तूबर, 2016 को दिवाली का त्यौहार था, इसलिए सारे शहर की सड़कों पर ही नहीं, गलीगली में चहलपहल थी. हर कोई खुश नजर आ रहा था. सिर्फ हेमंत ही एक ऐसा आदमी था, जो ऊपर से भले ही खुश नजर आ रहा था, लेकिन अंदर ही अंदर वह सुलग रहा था. दोपहर बाद वह अपने दोस्त मनोज के मैडिकल स्टोर पर पहुंचा और उस से घूमने चलने को कहा. इस के बाद दोनों ने घूमने की योजना बनाई और एक अन्य दोस्त सलीम को बुला कर मोटरसाइकिल से घूमने निकल पड़े. तीनों दोस्त काफी देर तक बाजार में घूमते रहे. शाम हो गई तो हेमंत ने दोनों दोस्तों से कहा, ‘‘मोटरसाइकिल छप्परी गली की ओर ले चलो, मैं तुम लोगों को वहां एक तमाशा दिखाता हूं.’’

‘‘कौन सा तमाशा दिखाएगा भाई?’’ सलीम ने पूछा तो हेमंत ने गंभीर हो कर कहा, ‘‘पहले वहां चलो तो, खुद ही देख लेना वह तमाशा.’’

सलीम ने मोटरसाइकिल छप्परी गली की ओर मोड़ दी. गली के बाहर ही मोटरसाइकिल रुकवा कर हेमंत उतर गया तो सलीम भी उतर कर खड़ा हो गया. शाम का समय था. दिवाली का त्यौहार होने की वजह से लोग दीए जला रहे थे. गली में बच्चे पटाखे फोड़ रहे थे. हेमंत ने मनोज से उस की पिस्टल मांगी और गली में घुस गया. वह जिस घर के सामने जा कर रुका, वह भारती माहेश्वरी का था. उन की मौत हो चुकी थी. घर में पत्नी सुनीता, बेटा तुषार, बेटी प्रेरिका और छोटे भाई की पत्नी पूजा और बहन का बेटा रानू था.

प्रेरिका उस समय घर के बाहर दीए जला रही थी. हेमंत उसी के पास जा कर खड़ा हो गया. उसे देख कर प्रेरिका हड़बड़ा सी गई. उस ने हेमंत को घूरते हुए पूछा, ‘‘तुम यहां कैसे?’’

‘‘क्यों, मैं यहां नहीं आ सकता क्या?’’ कह कर हेमंत ने उस का हाथ पकड़ कर खींचा तो उस ने शोर मचा दिया. उस की चीखपुकार सुन कर उस की बुआ का बेटा रानू और छोटा भाई तुषार बाहर आ गया. उन्होंने प्रेरिका को छुड़ा कर हेमंत को घेर लिया.

खुद को घिरा पा कर हेमंत घबरा गया और उस ने मनोज की पिस्टल सीधी कर के प्रेरिका पर गोली चला दी, जो उस के पेट में लगी. गोली लगते ही वह गिर गई. इस के बाद उस ने रानू पर गोली चला दी, तो उस के भी पेट में गोली लगी. उस ने तीसरी गोली तुषार पर चलाई, जो उसे छूती हुई निकल गई.

अब तक चीखपुकार मच गई थी. गोलियों की आवाज सुन कर गली वाले इकट्ठा हो गए थे. हेमंत ने भागना चाहा, लेकिन तभी उसे अजीत ने घेर लिया. अजीत हेमंत पर भारी पड़ा तो पकड़े जाने के डर से उस ने अजीत पर भी गोली चला दी, जो सीधे उस के सीने में लगी. उस की तुरंत मौत हो गई. अजीत तातारपुर निवासी प्रेरिका के भाई राहुल की दुकान पर नौकरी करता था. वह शादीशुदा ही नहीं, एक बेटी का बाप भी था.

अजीत के गिरते ही गली में अफरातफरी मच गई, जिस का फायदा उठा कर हेमंत दोस्तों के साथ भाग निकला. किसी ने पुलिस कंट्रोल रूम को इस घटना की सूचना दे दी तो वहां से मिली सूचना के आधार पर एसपी सुनील कुमार, एडीएम सुरेंद्र कुमार, सीओ शबीह अहमद और थानाप्रभारी पदम सिंह पुलिस बल के साथ घटनास्थल पर आ पहुंचे.

पुलिस ने घायलों को तुरंत अस्पताल भिजवाया और मृतक अजीत के घर वालों को सूचना दी. सूचना मिलते ही कुछ ही देर में अजीत के मांबाप और पत्नी गीता रोतीबिलखती आ पहुंची. औपचारिक पूछताछ के बाद पुलिस ने घटनास्थल की काररवाई निपटा कर अजीत की लाश को पोस्टमार्टम के लिए भिजवा दिया और थाने लौट कर घायल प्रेमिका के घर वालों की ओर से गोली चलाने वाले हेमंत और उस के दोस्तों मनोज तथा सलीम के खिलाफ हत्या तथा हत्या के प्रयास का मुकदमा दर्ज कर लिया.

इस के बाद पुलिस हेमंत को गिरफ्तार करने उस के घर पहुंची तो वही नहीं, उस के दोनों साथी भी अपनेअपने घरों से फरार मिले. पुलिस ने तीनों की गिरफ्तारी के लिए जगहजगह छापे मारने शुरू किए. इस का नतीजा यह निकला कि घटना के तीसरे दिन यानी 2 नवंबर, 2016 को हेमंत पुलिस के हाथ लग गया.

पुलिस द्वारा की गई पूछताछ में हेमंत ने कहा कि वह वहां घूमने गया था. लोगों ने उसे घेर लिया तो गोलियां उस ने अपने बचाव में चलाई थीं. इस के बाद गोलियां चलाने की जो कहानी निकल कर सामने आई, वह इस प्रकार थी—

उत्तर प्रदेश के जिला कासगंज की छप्परी गली में रहते थे भारती माहेश्वरी. उन की मौत हो चुकी थी. उन के बाद घर में उन की पत्नी सुनीता के अलावा उन के भाई की पत्नी पूजा, बेटा तुषार, बेटी प्रेरिका और बहन का बेटा रानू रहता था. पिता की मौत के बाद तुषार ने उन की गहनों की दुकान संभाल ली थी. 12वीं पास करने के बाद प्रेरिका कोई प्रोफैशनल कोर्स करना चाहती थी. उस ने यह बात घर वालों से कही तो उन्होंने उस का दाखिला दिल्ली में एनआईआईटी में कंप्यूटर सीखने के लिए करा दिया.

घर में शायद किसी को मालूम नहीं था कि प्रेरिका के नजदीकी संबंध कासगंज की ही दुर्गा कालोनी के रहने वाले रूप सिंह यादव के बेटे हेमंत यादव से हैं. वह यूपी टैक्निकल यूनिवर्सिटी लखनऊ से एमसीए कर रहा था. कासगंज में पढ़ाई के दौरान हेमंत की मुलाकात प्रेरिका से हुई थी. कालेज में पढ़ते समय दोनों मिले तो कुछ ऐसी बातें हुईं कि एकदूसरे की ओर आकर्षित हो उठे.

इस का नतीजा यह निकला कि दोनों एकदूसरे से प्यार करने लगे. 12वीं करने के बाद हेमंत आगे की पढ़ाई के लिए जहां लखनऊ चला गया, वहीं प्रेरिका दिल्ली. दोनों भले ही दूरदूर हो गए थे, लेकिन मोबाइल के जरिए उन का संपर्क बना हुआ था.

कंप्यूटर का कोर्स पूरा हो गया तो प्रेरिका ने बीकौम में दाखिला लेने के साथ बैंकिंग की कोचिंग में भी दाखिला ले लिया था. अब तक हेमंत की पढ़ाई पूरी हो गई थी. उसे दिल्ली की रिलैक्सो कंपनी में नौकरी मिल गई तो वह भी दिल्ली आ कर रहने लगा था.

सरस सलिल विशेष

दिल्ली में न प्रेरिका पर कोई नजर रखने वाला था और न हेमंत पर. दोनों खुलेआम मिलनेजुलने के साथसाथ घूमनेटहलने लगे. प्रेरिका भले ही हेमंत से मिलजुल रही थी और घूमफिर रही थी, लेकिन अपने इस प्रेम संबंध को वह वैवाहिक संबंध में तब्दील नहीं कर सकती थी. इस की वजह यह थी कि उस की और हेमंत की जाति अलगअलग थी. दोनों के ही घर वाले उन की शादी के लिए कतई तैयार न होते. हेमंत और प्रेरिका ने अपने प्रेम संबंधों को बहुत छिपाया, पर उन के घर वालों को उन के प्रेम संबंधों का पता चल ही गया. फिर तो दोनों के ही घर वाले परेशान हो उठे. न हेमंत के घर वाले दूसरी जाति की लड़की से शादी करने को तैयार थे और न प्रेरिका के घर वाले दूसरी जाति के लड़के से शादी करना चाहते थे. दोनों के ही घर वालों ने उन्हें समझाने का काफी प्रयास किया, लेकिन दोनों ने कोई उचित जवाब नहीं दिया.

कोई ऊंचनीच न हो जाए, यह सोच कर हेमंत के घर वाले उस के लिए लड़की ढूंढने लगे. यह जान कर हेमंत परेशान हो उठा. दूसरी ओर प्रेरिका भी कोई निर्णय नहीं ले पा रही थी, इसलिए हेमंत भ्रम में था. वैसे वह अपने पैरों पर खड़ा था, जिस से चाहता, उस से शादी कर सकता था.

आखिर रूप सिंह ने हेमंत के लिए अलीगढ़ की एक लड़की पसंद कर ली. जब इस बात की जानकारी हेमंत को हुई तो वह चिंतित हो उठा. उस ने प्रेरिका से कहा कि अब उसे जल्दी ही फैसला कर लेना चाहिए कि वह उस से शादी कर रही है या नहीं? इस पर प्रेरिका ने कहा कि वह किसी तरह इस शादी को कुछ समय के लिए टाल दे. उसे जैसे ही नौकरी मिल जाएगी, वह उस से शादी के बारे में विचार करेगी.

प्रेरिका का यह व्यवहार हेमंत की समझ में नहीं आ रहा था. वह तनाव में रहने लगा. प्रेरिका के कहने पर उस ने घर में शादी के लिए मना कर दिया. उस ने घर में कहा था कि अभी उस की नईनई नौकरी है, ऐसे में अभी शादीब्याह का झंझट ठीक नहीं है. लड़का बड़ा हो गया था, इसलिए मांबाप को उस की बात माननी पड़ी. उन्होंने विवाह के लिए मना कर दिया.

लेकिन जब समय बीतने के साथ प्रेरिका ने कोई निर्णय नहीं लिया तो हेमंत को लगने लगा कि प्रेरिका शादी को ले कर गंभीर नहीं है. उसे लगा कि शायद वह उस के साथ खेल खेल रही है.

यह बात उसे परेशान करने लगी थी, क्योंकि अब प्रेरिका उस से कटने लगी थी. वह जब भी उस से मिलने को कहता, वह कोई न कोई बहाना बना देती. उस का फोन भी रिसीव करना कम कर दिया था. कभीकभी तो बात करतेकरते ही फोन काट कर स्विच्ड औफ कर देती.

प्रेरिका की ये हरकतें हेमंत को अखरने लगी थीं. परेशान हो कर आखिर एक दिन उस ने पूछ ही लिया, ‘‘प्रेरिका, आखिर तुम चाहती क्या हो, साफसाफ क्यों नहीं बता देतीं?’’

प्रेरिका ने तुनक कर कहा, ‘‘मेरी मम्मी को हमारे प्यार के बारे में पता चल गया है. उन्होंने कसम दिलाई है कि मैं तुम से बिलकुल न मिलूं.’’

हेमंत अवाक रह गया. प्रेरिका यह क्या कह रही है. उसे तो वैसे भी लग रहा था कि प्रेरिका की जिंदगी में कोई और आ गया है, इसीलिए वह उस से दूर भाग रही है. उस ने यह बात प्रेरिका से कही तो उस ने कहा, ‘‘यह तुम क्या कह रहे हो हेमंत?’’

‘‘मैं तो वही कह रहा हूं, जो तुम्हारे बातव्यवहार से मुझे लग रहा है. लेकिन तुम्हारे लिए यह ठीक नहीं होगा प्रेरिका.’’

‘‘तो तुम मुझे धमकी दे रहे हो?’’

‘‘धमकी ही समझ लो. प्रेरिका अगर तुम ने खुद को सुधारा नहीं तो मैं तुम्हारे लिए कुछ भी कर सकता हूं.’’ कह कर हेमंत चला गया.

प्रेरिका प्रेमी की इन बातों से बुरी तरह डर गई. दूसरी ओर हेमंत का भी दिल टूट चुका था. प्रेरिका की दूरी उसे परेशान कर रही थी, इसलिए उसे उस पर गुस्सा आ रहा था. इसी गुस्से में उस ने प्रेरिका के साथ का अपना एक वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल कर दिया.

प्रेरिका ने जब उस वीडियो को देखा तो परेशान हो उठी. हेमंत उसे इस तरह बदनाम करेगा, उस ने कभी सोचा भी नहीं था. जब इस बात की जानकारी प्रेरिका के घर वालों को हुई तो सब की नींद उड़ गई.

उन्होंने समाज के कुछ प्रतिष्ठित लोगों को अपनी परेशानी बताई तो उन्होंने हेमंत के घर वालों से बात की. इस के बाद दोनों ओर के कुछ प्रतिष्ठित लोग इकट्ठा हुए. सब ने हेमंत तथा प्रेरिका को बुला कर समझाया और अपनीअपनी जिंदगी जीने की सलाह दी.

प्रेरिका ने जब कहा कि अब वह हेमंत से कोई संबंध नहीं रखना चाहती तो बड़ेबुजुर्गों ने हेमंत को सख्त हिदायत दी कि अब वह प्रेरिका से बिलकुल नहीं मिलेगा. हेमंत ने सब के सामने वादा कर लिया कि अब वह प्रेरिका से बिलकुल नहीं मिलेगा. वह उसे फोन भी नहीं करेगा.

बड़ेबुजुर्गों के सामने दबाव में हेमंत ने वादा तो कर लिया कि वह प्रेरिका से बिलकुल नहीं मिलेगा और उसे फोन भी नहीं करेगा. लेकिन शायद वह प्रेमिका के बिना रह नहीं सकता था. घर वालों को लग रहा था कि हेमंत सुधर गया है, इसलिए उन्होंने उस की शादी मैनपुरी में तय कर दी.

लड़की सेवानिवृत्त फौजी की बेटी थी. रूप सिंह और उस की पत्नी को लगता था कि शादी के बाद सब ठीक हो जाएगा. बेटा प्रेरिका को भूल कर अपनी गृहस्थी को संभाल लेगा. अब तक प्रेरिका की पढ़ाई पूरी हो चुकी थी, इसलिए वह कासगंज आ कर रहने लगी थी. उसे भी पता चल गया था कि हेमंत की शादी हो रही है. उसे भी लगा कि शादी के बाद हेमंत उसे परेशान नहीं करेगा.

सन 2016 के अप्रैल महीने में हेमंत की शादी हो गई. घर वाले चाहते थे कि वह पत्नी को अपने साथ दिल्ली ले जाए, लेकिन हेमंत पत्नी को साथ नहीं ले गया.

भले ही हेमंत की शादी हो गई थी, लेकिन वह प्रेरिका को भूल नहीं पा रहा था. उस के साथ गुजारे गए पल उसे बारबार याद आ रहे थे, जिस से उसे यह सोचसोच कर गुस्सा आ रहा था कि प्रेरिका ने उस के प्यार को मजाक बना कर रख दिया.

हेमंत से रहा नहीं गया तो उस ने प्रेरिका को फोन कर के कहा कि वह उस से मिलना चाहता है. लेकिन प्रेरिका ने मिलने से मना कर दिया. उस ने कहा कि अब तो उस की शादी हो चुकी है, इसलिए अब वह उस से मिल कर क्या करेगा. उसे अपनी पत्नी में दिल लगाना चाहिए.

हेमंत गुस्से में उबल पड़ा. बस उस ने उसी समय तय कर लिया कि अब वह प्रेरिका के इस व्यवहार का बदला ले कर रहेगा. दूसरी ओर घबरा कर प्रेरिका ने अपना मोबाइल नंबर बदल दिया था, जिस से हेमंत की उस से बात नहीं हो पा रही थी. इस से उस का गुस्सा बढ़ता ही गया. बात न होने की वजह से उस का मन बेचैन रहता था. उस की पत्नी को भी उस का व्यवहार अजीब लगता था. उसे सच्चाई का पता नहीं था, फिर भी उसे लगता था कि कुछ गड़बड़ जरूर है.

दिवाली का त्यौहार आया तो हेमंत घर आया. लेकिन त्यौहार को ले कर उस के दिल में कोई उत्साह नहीं था. दिवाली के दिन वह अपने दोस्त मनोज की दुकान पर गया. उस की कमर पर लगी उस की लाइसैंसी पिस्टल देख कर एकदम से उसे प्रेरिका से बदला लेने की बात याद आ गई. इस के बाद बदला लेने के लिए उस ने उसे गोली जरूर मारी, पर वह बच गई. उस के बदले मारा गया निर्दोष अजीत.

पूछताछ के बाद पुलिस ने हेमंत को अदालत में पेश किया, जहां से उसे जेल भेज दिया गया. बाद में मनोज और सलीम ने अदालत में आत्मसमर्पण कर दिया था, जहां से उन्हें भी जेल भेज दिया गया था.

इस मामले में निर्दोष मारे गए अजीत का परिवार अनाथ हो गया. जिलाधिकारी ने सहानुभूति जताते हुए प्रधानमंत्री फंड से सहायता दिलाने का वादा किया था. लेकिन उस के घर वालों को तो कभी न भुलाने वाला गम मिल ही गया है.