पतिपत्नी का रिश्ता विश्वास का होता है जिस की बराबरी किसी रिश्ते से नहीं की जा सकती, लेकिन प्रेमपाश में फंसी अंशिका कहीं की नहीं रही. तथाकथित प्यार की खातिर उस ने अपना तो सुहाग उजाड़ा ही, उसे अपने मासूम बच्चे से भी अलग हो कर जेल जाना पड़ा.