प्रीति भार्गव लाश की शिनाख्त कराने की कोशिश कर रही थीं कि शाम को तुलसीराम पिछली शाम से गायब अपने बेटे की तलाश करते करते उन के पास आ पहुंचे.