पुराने भोपाल में बन्ने मियां और उन की पत्नी जमीला का नाम किसी पहचान का मोहताज नहीं था. बन्ने मियां की इमेज एक भाजपा समर्थक मुसलमान नेता की थी.