सरस सलिल विशेष

दिल्ली पुलिस की क्राइम ब्रांच ने नशीली दवाओं की तस्करी के आरोप में नाइजीरिया के एक नौजवान को गिरफ्तार किया. उस के पास से पौने 2 किलो कोकीन बरामद हुई. इंटरनैशनल बाजार में इस कोकीन की कीमत एक करोड़, 75 लाख रुपए आंकी गई.

पुलिस के मुताबिक, पकड़े गए 32 साला तस्कर का नाम पौल चीनेडू अगवोर उर्फ एमा था. वह ओनिशा, नाइजीरिया का रहने वाला था. वह कई सालों से भारत में रह कर नशीली दवाओं की तस्करी कर रहा था. उस का नैटवर्क देश के कई शहरों में था. वह नशीली दवाओं को बड़ी चालाकी से कभी कपड़ों में, कभी मिठाई के डब्बों में या पेंटिंग के फ्रेम में भर कर एक शहर से दूसरे शहर ले जाता था और वहां दूसरे तस्करों को सप्लाई करता था.

चंडीगढ़ पुलिस ने करोड़ों रुपए के डौलर देने के बहाने लोगों से ठगी करने वाले नाइजीरिया के एक नौजवान इमैनुअल हैरी को गिरफ्तार किया. पुलिस ने उस के पास से नकली डौलर के 36 पैकेट बरामद किए (असली होने पर ये डौलर 5 करोड़ रुपए के होते).

पुलिस के मुताबिक, हैरी औरत बन कर लोगों को ईमेल भेजता था. उस ईमेल में वह लिखता था कि उसे एक जानलेवा बीमारी है. उस का इस दुनिया में कोई नहीं है. वह मरने से पहले अपनी सारी जायदाद, जो 85 मिलियन डौलर की है, किसी अच्छे शख्स को दान करना चाहती है. जो कोई इस जायदाद को पाना चाहता है, कृपया पूरी डिटेल्स के साथ उस से बात करे.

अगर कोई शख्स इस बात में दिलचस्पी दिखाते हुए ईमेल का जवाब देता, तब उसे दूसरा मेल मिलता. इस में बताया जाता कि रुपए देने के लिए उस का वकील माइकल नैल्सन कागजी कार्यवाही पूरी करने के लिए भारत पहुंच चुका है. वह सारी जानकारी लेने के बाद जायदाद दे देगा.

अगले कुछ दिनों में हैरी खुद ही माइकल नैल्सन बन कर फोन द्वारा बात कर के ईमेल करने वाले शख्स से डिटेल लेता था. इस के बाद वह कहता था कि इतनी बड़ी रकम को डायरैक्ट किसी बैंक में ट्रांसफर करना मुश्किल है. भारतीय रिजर्व बैंक के जरीए ही भेजना मुमकिन है. इस के लिए भारतीय नियम के मुताबिक वैट टैक्स समेत दूसरे शुल्क चुकाने होंगे.

लोग उस के झांसे में आ कर वैट टैक्स के रूप में रुपए जमा कर देते थे. मोटी रकम लेने के बाद वह उन्हें नकली डौलर थमा देता था.

पुलिस के मुताबिक, इमैनुअल हैरी भारत के कई शहरों के सौ से भी ज्यादा लोगों को करोड़ों रुपए का चूना लगा चुका था.

पुणे, महाराष्ट्र की रहने वाली एक तलाकशुदा औरत किसी ब्रिटेन के बाशिंदे से शादी कर के विदेश जाना चाहती थी. दूसरी शादी के बाद करोड़ों रुपए में खेलने की सोच रखने वाली इस औरत ने सैकंड शादीडौटकौम पर अपना ब्योरा रजिस्टर करा दिया.

इस प्रोफाइल को पढ़ कर रौबर्ट नाम के एक नौजवान ने उस औरत से बात की. उस ने खुद को कनाडा का रहने वाला नागरिक बताया. चैटिंग करते वक्त उस ने औरत को बताया कि वह उसे काफी पसंद है. वह उस के साथ घर बसाना चाहता है.

रौबर्ट ने यह दावा भी किया कि उस के पास 3 लाख, 20 हजार कनेडियन डौलर यानी एक करोड़, 75 लाख रुपए हैं. वह सारे रुपए उसे दे देगा.

यह सुन कर वह औरत खुशी से उछल पड़ी. उसे विदेश जाने के सपने पूरे होते नजर आने लगे. कुछ दिनों की चैटिंग के बाद जब उस नौजवान को यह महसूस हो गया कि वह औरत पूरी तरह से उस पर फिदा है और वह उस के झांसे में आ चुकी है, तब एक दिन उस ने अपनी मां की तबीयत खराब होने और उस के इलाज के लिए 8 लाख रुपए मंगवाए. फिर मलयेशिया एयरपोर्ट पर कस्टम द्वारा रुपए पकड़े जाने की बात कह कर और रुपए मंगवाए.

इस तरह रौबर्ट ने उस औरत से अलगअलग बहाने बना कर के कुल 40 लाख, 59 हजार रुपए ठग लिए और उस के बाद उसे फोन करना बंद कर दिया.

उस औरत ने पुलिस में शिकायत की. पुलिस द्वारा मोबाइल फोन, ईमेल, फेसबुक, बैवसाइट द्वारा खोजबीन करने पर पता चला कि रौबर्ट ब्रिटिश नागरिक नहीं, बल्कि नाइजीरिया का था. उस का असली नाम पौल ओकाफोर था. वह तलाकशुदा, विधवा, विकलांग औरतों को अपने बारे में बड़ीबड़ी बातें बता कर उन्हें प्रभावित कर लेता था. इस के बाद वह उन से किसी न किसी बहाने रुपए ठग लेता था.

पुणे पुलिस ने बेंगलुरु में छापा मार कर उसे एक फ्लैट से गिरफ्तार किया. उस के साथ एक भारतीय औरत को भी गिरफ्तार किया गया. पौल ओकाफोर उर्फ रौबर्ट के मुताबिक, वह औरत उस की पत्नी थी. भारतीय मूल की उस औरत का नाम सुप्रिया एलिजाबेथ उर्फ मोना था.

सरस सलिल विशेष

पौल ओकाफोर के ठगी के काम में उस की यह पत्नी भी मदद करती थी. पुणे पुलिस के मुताबिक, पौल ओकाफोर को इस के पहले भी 43 लाख रुपए की ठगी के एक मामले में गिरफ्तार किया जा चुका था.

देशभर में सैकड़ों लोगों के साथ करोड़ों रुपए की धोखाधड़ी करने के आरोप में चेन्नई, तमिलनाडु पुलिस ने नाइजीरिया के 2 नागरिकों रीलेंड चुकबुदी उर्फ लुकारा और स्टैलनी रेनसोगा को गिरफ्तार किया. पुलिस ने उन के पास से 5 डाटा कार्ड, 5 पैन ड्राइव, 3 लैपटौप, काफी मात्रा में ब्लैक डौलर बरामद किए.

राजू नाम के एक नौजवान ने नाइजीरिया के 2 लोगों द्वारा ब्लैक डौलर दे कर 44 लाख रुपए ठगे जाने की शिकायत पुलिस में दर्ज कराई. पुलिस ने नाइजीरिया के उन नौजवानों की पहचान के लिए फेसबुक से नाइजीरिया के 2 सौ नागरिकों के फोटो जुटाए. उन्हें राजू को दिखाने के बाद वह एक आरोपी को पहचान गया. पुलिस ने उन्हें उन की मोबाइल लोकेशन से मुंबई में गिरफ्तार कर लिया.

फेसबुक के जरीए दोस्ती करने के बाद एक शख्स से करोड़ों रुपए की ठगी करने वाले नौजवान को कोलकाता पुलिस ने उस की प्रेमिका के साथ दिल्ली के उत्तम नगर इलाके से गिरफ्तार किया.

गिरफ्तार किए गए 35 साला आरोपियों के नाम विंसैंट मोर्लिय और 30 साला सुशान आओमिन उर्फ तोशेली थे. वे दोनों मूलरूप से नाइजीरिया के रहने वाले थे, जो फेसबुक पर खुद को अमेरिका और डेनमार्क के बाशिंदे और डौक्यूमैंट्री फिल्म बनाने वाले बताते थे.

विंसैंट मोर्लिय ने एक निजी कंपनी में प्रोड्यूसर के पद पर काम करने वाले अनुतोष डे से फेसबुक पर दोस्ती की थी. वे दोनों फेसबुक पर फिल्मों को ले कर काफी समय तक चैटिंग करते थे. इस दौरान विंसैंट ने शांति निकेतन पर डौक्यूमेंट्री फिल्म बनाने की बात कही. अनुतोष ने उसे हर तरह से मदद करने का भरोसा दिलाया.

एक दिन अनुतोष के पास विंसैंट मोर्लिय का फोन आया, जिस में उस ने कहा कि वह भारत आ गया है, लेकिन यहां एक परेशानी में पड़ गया है. उसे मदद की जरूरत है. उस ने आगे बताया कि ज्यादा रुपए होने की वजह से एयरपोर्ट पर भारतीय कस्टम महकमे वालों ने उसे पकड़ लिया है. कस्टम से निकलने के लिए उस ने कुछ रुपए जमा करने की बात कही.

अनुतोष ने रुपए जमा कर के उस की मदद कर दी. इस के बाद कई तरह के बहानों से विंसैंट मोर्लिय ने उन से रुपए मंगवाए.

अनुतोष ने कई किस्तों में कुल 18 लाख, 78 हजार, 6 सौ रुपए रुपए उस के बैंक खाते में ट्रांसफर किए. जब अनुतोष ने महसूस किया कि उस के साथ ठगी हो गई है, तब उस ने कोलकाता पुलिस में इस की शिकायत दर्ज की.

कोलकाता पुलिस द्वारा जांच शुरू कर बैंक अकाउंट के जरीए विंसैंट मोर्लिय को ढूंढ़ निकाला. पुलिस ने दिल्ली के सफदरजंग एंक्लेव इलाके से विंसैंट मोर्लिय और सुशान आओमिन उर्फ तोशेली को गिरफ्तार किया.

उन के पास 2 पासपोर्ट और साल 2010 का एक ड्राइविंग लाइसैंस मिला. कोलकाता पुलिस के मुताबिक वे दोनों साल 2010 से भारत में रह कर लोगों के साथ धोखाधड़ी कर रहे थे.

नाइजीरिया के अपराधी भारतीय पुलिस के लिए सिरदर्द बनते जा रहे हैं. वे अपराध करने के काफी शातिर तरीके अपनाते हैं. वे अपने शिकार से जो भी रकम भारत के किसी बैंक के अकाउंट में जमा कराते हैं, वह अकाउंट किसी भारतीय का होता है.

नाइजीरिया के अपराधी किसी भारतीय को मोटा कमीशन देने की बात कह कर उस के अकाउंट में रकम मंगवा लेते हैं. रुपए मंगवाने के लिए वे हर बार किसी नए अकाउंट होल्डर को पकड़ते हैं. शिकायत होने पर मामला उस भारतीय के खिलाफ बनता है और वे साफ बच जाते हैं.

कोई भी विदेशी नागरिक भारत आने पर जरूरत पड़ने पर बैंक में अपना अकाउंट खुलवा सकता है. पासपोर्ट दिखा कर विदेशियों का बैंक में अकाउंट आसानी से खुल जाता है, पर जो विदेशी नागरिक भारत में अपराध करने के मकसद से आते हैं, वे यहां आते ही अपना पासपोर्ट फाड़ कर फेंक देते हैं.

इस की 2 वजहें होती हैं. पहली, इस से वे अपनी पहचान छिपाने में कामयाब हो जाते हैं. दूसरी, अपराध करने के बाद पकड़े जाने पर उन्हें उन के देश भेजना पुलिस के लिए मुश्किल हो जाता है.

एसीपी सुनील देशमुख ने बताया, ‘‘इन के मोबाइल नंबर को भी सुबूत के तौर पर इस्तेमाल नहीं कर सकते, क्योंकि इन के मोबाइल नंबर भी किसी भारतीय के नाम से रजिस्टर्ड होते हैं.

‘‘आजकल नाइजीरिया के अपराधी ब्रिटेन या अमेरिका के सिम का इस्तेमाल कर रहे हैं. ऐसे में वहां से जानकारी लेना बड़ा मुश्किल है. इन की आवाज को टेप कर सुबूत के रूप में कोर्ट में पेश कर उसे साबित करना मुश्किल होता है, क्योंकि शिकायत करने वाले अकसर उन की आवाज को पहचान नहीं पाते हैं.’’

नाइजीरया के ज्यादातर अपराधी काफी उग्र होते हैं. वे अगर भड़क गए, तो 2-3 पुलिस वाले भी उन्हें संभाल नहीं सकते. उन्हें कंट्रोल करने के लिए पुलिस फोर्स की जरूरत पड़ती है, वरना वे भाग सकते हैं. खाने के मामले में उन पर काफी खर्च करना पड़ता है. ठीक से खाना न मिलने पर वे और ज्यादा ऊधम मचाते हैं.

कोर्ट से जमानत मिलने के बाद वे जगह बदल लेते हैं. उन के नाम का वारंट निकलने के बाद भी उन्हें खोज पाना बहुत मुश्किल होता है, क्योंकि देश में रहने का उन का कोई स्थायी ठिकाना नहीं होता है.

नशीली दवाओं जैसे मामलों में उन्हें जमानत नहीं मिल पाती है, पर जब कोर्ट का ट्रायल चलता है, उस वक्त गवाह न मिल पाने की वजह से वे छूट जाते हैं.

उन के जेल जाने पर जेल प्रशासन भी परेशान हो जाता है. वहां पर दूसरे कैदियों के साथ मारपीट करना, झगड़ा करना, दूसरे कैदियों का खाना छीन लेना, धमकी देना जैसी हरकतों से सभी परेशान हो जाते हैं. उन्हें उन के देश वापस भेजना भी पुलिस अफसरों के लिए परेशान कर देने वाली बात होती है. ऐसा करते वक्त पुलिस व सरकार को अपनी जेब से हवाईजहाज का टिकट खरीद कर देना होता है.

क्या उन पर रोक नहीं लगाई जा सकती? इस सवाल पर एसीपी सुनील देशमुख का कहना हैं, ‘‘इस बारे में अभी तक सरकार द्वारा नाइजीरिया के लोगों पर भारत आने की रोक लगाने की बात सामने नहीं आई है. इस मामले में राजनीति और कूटनीति वाले समझ सकते हैं कि क्या करना है, क्या नहीं. अपने देश भेजा गया आरोपी दोबारा वापस न आए, इस के लिए पुलिस द्वारा सावधानी बरती जाती है.

‘‘नाइजीरिया के अपराधी को उस के देश वापस भेजते वक्त पुलिस उस का बायोमीट्रिक्स और फिंगर प्रिंट ले लेती है और उसे देश के सभी एयरपोर्ट पर भेज दिया जाता है. अगर वह दोबारा भारत में आता है, तो एयरपोर्ट पर ही पहचान लिया जाता है.’’

लोगों को एक बात और सोचनी चाहिए कि लालच बुरी बला है. अगर वे इसी बात को ध्यान में रखेंगे, तो नाइजीरिया के अपराधियों के चंगुल से बच जाएंगे.