सरस सलिल विशेष

उस महिला की शक्ल देख कर ही उत्तर प्रदेश के जिला इलाहाबाद के थाना झूंसी के थानाप्रभारी विजय प्रताप सिंह को लगा कि यह किसी भारी मुसीबत में है. उन्होंने उसे बैठा कर उस की परेशानी पूछी तो उस ने रोते हुए कहा, ‘‘साहब, कल रात से मेरे पति का कुछ पता नहीं है.’’

‘‘क्या नाम है तुम्हारा, तुम रहती कहां हो?’’ विजय प्रताप सिंह ने पूछा तो महिला ने रोते हुए कहा, ‘‘साहब, मेरा नाम आरती है और मैं यहीं पड़ोस में शिवगंगा विहार कालोनी में रहती हूं.’’

‘‘अपने पति के बारे में पूरी बात बताओ. वह कब घर से गए, कहां गए और कब तक रोज घर आते थे? वह करते क्या हैं, उन का नाम क्या है?’’

‘‘साहब, उन का नाम विजयशंकर पांडेय है. वह कल दोपहर बाद घर से निकले थे. शाम तक घर नहीं आए तो मैं ने उन के मोबाइल पर फोन किया. लेकिन बात नहीं हो सकी, क्योंकि उन का फोन बंद था. एक तो पानी बरस रहा था, दूसरे बात नहीं हो पा रही थी, इसलिए मुझे चिंता हो रही थी. घर के पिछले हिस्से में बाढ़ का पानी भी भरा था, ऐसे में उन का न आना परेशान कर रहा था. बरसात की वजह से मैं उन्हें कहीं खोजने भी नहीं जा सकी. जब वह सवेरे भी नहीं आए और बात भी नहीं हो सकी तो मैं थाने आ गई.’’

‘‘ठीक है, मैं तुम्हारे पति की गुमशुदगी दर्ज करा कर आगे की काररवाई करता हूं.’’ विजय प्रताप सिंह ने कहा और विजयशंकर पांडेय की गुमशुदगी दर्ज करा दी.

लेकिन जब उन्होंने आरती से आगे पूछताछ की तो उन्हें उस की विरोधाभासी बातों से उसी पर ही संदेह हुआ, क्योंकि उस ने उन के तमाम सवालों के जवाब इस तरह दिए थे, जो पहले दिए जवाबों से मेल नहीं खा रहे थे. इस से उन्हें लगा कि यह कुछ छिपा रही है.

कुछ दिशानिर्देश दे कर विजयप्रताप सिंह ने इस मामले की जांच की जिम्मेदारी एसआई काशीप्रसाद कुशवाहा को सौंप दी. उन्होंने कहा था कि पहले वह आरती के बारे में पता करें कि उस का चरित्र कैसा है? काशीप्रसाद कुशवाहा सिपाहियों को ले कर शिवगंगा विहार कालोनी जाने की तैयारी कर रहे थे कि उन्हें फोन द्वारा सूचना मिली पति की गुमशुदगी दर्ज कराने वाली आरती के घर से थोड़ी दूरी पर बाढ़ के पानी में एक लाश तैर रही है.

काशीप्रसाद ने तुरंत यह जानकारी थानाप्रभारी को दी और खुद मोटरवोट तथा गोताखोरों की व्यवस्था कर के घटनास्थल पर पहुंच गए. लाश को निकलवा कर बाहर लाया गया तो पता चला कि वह लाश आरती के पति विजयशंकर पांडेय की थी, जिस की कुछ देर पहले ही उस ने गुमशुदगी दर्ज कराई थी.

लाश मिलने की सूचना पा कर कालोनी वाले तो इकट्ठा थे ही, आरती भी अपने तीनों बच्चों और कुछ शुभचिंतकों के साथ वहां पहुंच गई थी. सूचना पा कर विजय प्रताप सिंह भी आ गए थे.

लाश की शिनाख्त हो ही चुकी थी. पुलिस लाश का निरीक्षण करने लगी तो मृतक के सिर में एक बड़ा सा घाव दिखाई दिया. इस का मतलब था कि मृतक पानी में डूब कर नहीं मरा था, उस के सिर पर किसी भारी चीज से वार कर के उसे मारा गया था. उस के गले पर भी कसने के निशान थे.

इन बातों से साफ हो गया था कि यह हत्या का मामला था. घटनास्थल की सारी काररवाई निपटा कर पुलिस ने लाश को पोस्टमार्टम के लिए मैडिकल कालेज भिजवा दिया.

अगले दिन पोस्टमार्टम रिपोर्ट मिली तो पता चला कि विजयशंकर की कनपटी और सिर के पिछले हिस्से पर किसी भारी चीज से कई वार किए गए थे, इस के अलावा उस के गले में कोई चीज लपेट कर कसा गया था.

पोस्टमार्टम रिपोर्ट से साफ हो गया था कि यह हत्या का मामला था. इस के बाद विजय प्रताप सिंह ने विजयशंकर की गुमशुदगी को हत्या में तब्दील कर आगे की जांच शुरू कर दी. चूंकि उन्हें मृतक की पत्नी आरती पर संदेह था, इसलिए उन्होंने पूछताछ के लिए उसे थाने बुला लिया.

आरती से पूछताछ की जाने लगी, लेकिन वह कुछ भी बताने को राजी नहीं थी. वह अपने पहले वाले बयान को ही बारबार दोहराती रही. जबकि पुलिस को पूरा विश्वास था कि हत्या उसी ने कराई है या खुद ही की है, इसलिए पुलिस ने उस के पिछले बयान पर विश्वास न कर के जब उस के साथ थोड़ी सख्ती की तो उस ने अपना अपराध स्वीकार करते हुए बताया कि प्रेमी रामेंद्र सिंह उर्फ मिंटू और उस के दोस्त चंद्रमा सिंह उर्फ चंदन के साथ मिल कर उसी ने पति विजयशंकर पांडेय की हत्या की थी. इस के बाद उस ने पति की हत्या की जो कहानी सुनाई, वह इस प्रकार थी—

कौशांबी का रहने वाला विजयशंकर पांडेय 8-10 साल पहले परिवार सहित इलाहाबाद आ कर वाराणसी की ओर जाने वाले रोड पर स्थित झूंसी में इलाहाबाद प्राधिकरण द्वारा बनवाई गई शिवगंगा विहार कालोनी में रहने लगा था. उस के परिवार में पत्नी आरती के अलावा 3 बच्चे थे.

सरस सलिल विशेष

गुजरबसर के लिए विजयशंकर ने मकान में ही किराए पर फिल्मों की सीडी देने की दुकान खोल ली थी. इस के अलावा वह थोड़ाबहुत प्रौपर्टी डीलिंग का भी काम कर लेता था. जब कभी वह बाहर चला जाता था, दुकान पर उस की पत्नी आरती बैठ जाती थी.

विजयशंकर दुकान पर अश्लील फिल्मों की भी सीडी रखता था. इस बात की जानकारी आरती को भी थी. मनचले उन्हें लेने आते थे तो वह उन्हें देती भी थी. जो महिलाएं इस का शौक रखती थीं, वे आरती से ही ऐसी फिल्मों की सीडी ले जाती थीं.

विजयशंकर का पड़ोसी रामेंद्र सिंह उर्फ मिंटू भी अश्लील फिल्मों का शौकीन था. चूंकि वह आरती को भाभी कहता था, इसलिए दोनों में हंसीमजाक भी होता रहता था. इसलिए रामेंद्र को आरती से अश्लील सीडी मांगने में संकोच भी नहीं होता था. एक दिन रामेंद्र सीडी लेने आया तो आरती ने कहा, ‘‘देवरजी, कब तक इस तरह की फिल्में देख कर दिन काटोगे? अरे कहीं से घर वाली ले आओ.’’

‘‘भाभी, घरवाली मिलती तो जरूर ले आता. जब तक कोई नहीं मिल रही, फिल्में देख कर ही संतोष करना पड़ रहा है.’’ रामेंद्र ने मुसकराते हुए कहा.

‘‘जब तक घरवाली नहीं मिल रही, इधरउधर से व्यवस्था कर लो.’’ आरती ने रामेंद्र की आंखों में आंखें डाल कर कहा.

‘‘कौन पूछता है भाभी. भूखे को कोई भोजन नहीं देता. जिस का पेट भरा रहता है, उसी को सब पूछते हैं.’’ रामेंद्र ने सकुचाते हुए कहा.

‘‘कभी किसी से अपनी परेशानी कही है?’’

‘‘कोई फायदा नहीं भाभी, लोग हंसी ही उड़ाएंगे.’’

‘‘जब तक कहोगे नहीं, कोई तुम्हारी मदद कैसे करेगा?’’ आरती ने कहा.

‘‘आप से कहूं तो क्या आप मेरी मदद करेंगी? 4 गालियां जरूर दे देंगी.’’ रामेंद्र ने आरती के चेहरे पर नजरें गड़ा कर कहा.

आरती ने चेहरे पर रहस्यमयी मुसकान ला कर कहा, ‘‘एक बार कह कर तो देखो. अरे मैं तुम्हारी पड़ोसन हूं. पड़ोसी पड़ोसी की मदद नहीं करेगा तो क्या दूर वाला मदद करने आएगा.’’

अब इस से ज्यादा आरती क्या कहती. रामेंद्र भी बेवकूफ नहीं था. वह उस की बात का मतलब समझ गया. उस समय न विजयशंकर घर में था और न बच्चे. रामेंद्र आरती के घर में घुस गया. उस के बाद निकला तो बहुत खुश था. पत्नी की मौत के कई सालों बाद उस दिन उसे स्त्रीसुख मिला था.

दूसरी ओर आरती भी खुश थी. रामेंद्र ने उसे पूरी तरह खुश कर दिया था. एक बार दूरी मिटी तो सिलसिला चल निकला. जब भी उन्हें मौका मिलता, इच्छा पूरी कर लेते. दोनों अगलबगल रहते थे, इसलिए उन्हें मिलने में परेशानी भी नहीं होती थी.

आरती और रामेंद्र के बीच अवैध संबंध बने तो उन के बातचीत और हंसीमजाक का लहजा बदल गया. अब आरती उस का खयाल भी खूब रखने लगी, इसलिए आसपड़ोस वालों को संदेह होने लगा तो लोग इस बात को ले कर चर्चा करने लगे. नतीता यह निकला कि इस बात की जानकारी विजयशंकर को भी हो गई.

विजयशंकर को पत्नी पर पूरा विश्वास था, इसलिए उस ने चर्चा पर विश्वास न कर के खुद सच्चाई का पता लगाने का निश्चय किया. वह जानता था कि अगर वह इस बारे में पत्नी से पूछेगा तो वह सच्चाई बताएगी नहीं, बल्कि उस के पूछने से होशियार हो जाएगी. सच्चाई का पता लगाने के लिए वह बाहर जाने के बहाने घर से निकलता और छिप कर पत्नी तथा रामेंद्र पर नजर रखता.

उस की इस मेहनत का उसे जल्दी ही फल मिल गया. एक दिन दोपहर को उस ने आरती और रामेंद्र को रंगेहाथों पकड़ लिया. गुस्से में आरती को वह लातघूंसों से पीटने लगा. आरती के पास सफाई देने को कुछ नहीं था, इसलिए वह गलती के लिए माफी मांगते हुए भविष्य में फ