सरस सलिल विशेष

अंबाला शहर में परिवार के लोग हरिद्वार गंगा स्‍नान के लिए गए थे और घर में पिता-पुत्री रह गए थे. घर में बेटी को अकेली देख पिता की नीयत खराब हो गई और उसने उसे दुष्‍कर्म का शिकार बना डाला. परिजन लौटकर आए तो बेटी ने मां से पेट दर्द की शिकायत की. इसके बाद उसे डॉक्‍टर को दिखाया गया तो सारा मामला उजागर हो गया. अब अदालत ने दुष्‍कर्मी पिता को उम्रकैद की सजा सुनाई है.

घर में बेटी को अकेली देख पिता ने उसे अपनी हवस का शिकार बना डाला. आरोप है कि बेटी ने विरोध किया तो उसने जान से मारने की धमकी दी. उसने बेटी को इस बारे में किसी को कुछ नहीं बताने को कहा. परिवार के लोग हरिद्वार से लौटे तो लड़की को असहज पाया. पूछताछ करने पर लड़की ने मां को पेट में दर्द होने की बात कही.

इसके बाद वह उसे डॉक्टर के पास ले गई तो सारे मामले का खुलासा हो गया और लड़की ने मां को पिता की करतूत के बारे में बताया. इसके बाद मां ने आवाज उठाते हुए शहर के कोतवाली थाने में पति के खिलाफ मामला दर्ज करवाया. केस दर्ज करने के बाद पुलिस ने आरोपी पिता को गिरफ्तार कर लिया. एक साल दो माह चली सुनवाई के दौरान अदालत में 14 लोगों की गवाही हुई.

एडिशनल सेशन जज नरेंद्र सूरा की अदालत ने पिता को उम्रकैद के संग तीन हजार रुपये जुर्माना भी किया है. सुनवाई के दौरान पीड़िता लड़की और मां ने अपने बयान भी बदल लिए, लेकिन दोषी को बचा न सके.