सरस सलिल विशेष

यूपी, बिहार, हरियाणा और राजस्थान में संगीन वारदातों को अंजाम देने वाले एक्सल गैंग के चार वहशी दरिंदों को कानून का डर भले ही न हो. लेकिन भगवान में आस्था का ड्रामा यह बखूबी करते थे.

इन दरिंदों ने पुलिस पूछताछ में बताया कि साल के 365 दिनों में से 20 दिन गुनाहों की दुनिया से दूर रह कर सात्विक जीवन जीने का ढोंग करते थे. यही कारण है कि यह चारों दरिंदें नवरात्रों में कन्या का पूजन करना नहीं भूलते थे. लूट में अच्छा माल मिलने हर देवी पर बलि चढ़ाते थे. लूट में भगवान का हिस्सा भी निकाल कर रखते थे. यह लोग जो पैसा लूट का बचता था उससे साल में दो बार कन्या पूजन करते थे.

एक्सल गैंग के सदस्यों ने पुलिस पूछताछ में बताया कि वह वारदातों को अंजाम देने से पूर्व और बाद में भगवान का धन्यवाद करना नहीं भूलते थे. नवरात्रों में यह गैंग वारदातों को अंजाम नहीं देता था. इसके साथ मांस और मदिरा का सेवन भी नहीं करते थे. धमरु ने बताया कि एक एक बार नवरात्रों में उसके एक साथी ने होटल में मुर्गे का आर्डर दिया था. जिसे नवरात्र का हवाला देते हुए उस ऑर्डर को रद्द कर दिया था.

हरियाणा के दरोगा को धमकी

तेरह सितंबर को जब गुरुग्रामपुलिस ने हाईवे पर रेप-लूट करने वाले एक्सल गैंग को पकड़ा था तो सबसे पहले यूपी पुलिस और एसटीएफ को खबर की थी. गैंग का पर्दाफाश करने वाले दरोगा को यूपी पुलिस ने दो टूक जवाब दिया था कि वह दरोगा है और वही बनकर रहे, ज्यादा आगे न बढ़े.

यूपी पुलिस से अपेक्षित सहयोग नहीं मिला तो हरियाणा पुलिस ने पूरे मामले को सीबीआई के संज्ञान में डाला. इसके बाद ही पूरे प्रकरण का खुलासा हो सका.

हरियाणा के बिलासपुर क्राइम ब्रांच के प्रभारी सुरेंद्र सिंह और खेड़की दौला एसएचओ यशवंत सिंह की टीम ने एक साल की कड़ी मेहनत के बाद 13 सितंबर को एक्सल गैंग के सात गुर्गे गिरफ्तार किए थे. यूपी में एक्सल गैंग द्वारा किए गए बड़े मामलों की जानकारी देते हुए यूपी पुलिस को गुरुग्राम आकर आरोपियों से पूछताछ करने का न्योता दिया.

क्राइम सीन बताने पर भरोसा

यूपी पुलिस के रिस्पांस नहीं देने पर हरियाणा पुलिस के आला अधिकारियों ने पूरा मामला सीबीआई के संज्ञान में डाला. सीबीआई टीम ने गुड़गांव पहुंचकर आरोपियों से पूछताछ की. आरोपियों ने दोनों वारदातों का क्राइम ऑफ सीन सीबीआई को विस्तार से बताया.