सरस सलिल विशेष

दिल्ली के नरेला में गुरुवार रात बाइक सवार बदमाशों ने लूट का विरोध करने पर घर के बाहर एक कारोबारी की गोली मारकर हत्या कर दी. लुटेरों ने कारोबारी के भाई को भी पिस्तौल की बट मारकर घायल कर दिया. घटनास्थल के पास लगे सीसीटीवी कैमरे की फुटेज में लुटेरों की तस्वीर कैद हो गई है, मगर उन्होंने अपने चेहरे हेलमेट से ढक रखे हैं.

नरेला की पंजाबी कॉलोनी में 38 वर्षीय नीरज और 35 वर्ष का रिंकू परिवार सहित रहते थे. नरेला अनाज मंडी में उनका परचून का थोक कारोबार है. गुरुवार रात दोनों भाई कारोबार का हिसाब-किताब लेकर चार्टेड अकाउंटेंट से मिलने गए थे. वहां से रात लगभग 8.30 बजे दोनों बाइक से घर लौटे.

कारोबारी भाई जैसे ही बाइक से उतरकर घर की ओर बढ़े, पीछे से एक बाइक पर सवार दो बदमाश आए. उन्होंने कारोबारी से बैग छीनने का प्रयास किया. लुटेरों का कारोबारी भाइयों ने विरोध किया. इसी बीच एक बदमाश ने नीरज को गोली मार दी और पिस्तौल की बट मारकर रिंकू को भी घायल कर दिया. गोली चलने की आवाज सुनकर आसपास के लोग घटनास्थल की ओर दौड़े. लोगों को आता देख बदमाश तेज रफ्तार से बाइक दौड़ाते हुए भाग गए.

दोनों घायलों को तत्काल अस्पताल पहुंचाया गया, जहां डॉक्टरों ने नीरज को मृत घोषित कर दिया. पुलिस ने रिंकू के बयान पर हत्या का मामला दर्ज कर लिया है. रिंकू ने पुलिस को बताया कि दोनों बदमाशों ने हेलमेट पहन रखा था. इस कारण उनके चेहरे नहीं दिख रहे थे. पुलिस आसपास लगे सीसीटीवी कैमरों की फुटेज खंगालने के साथ ही कारोबारी के कर्मचारियों से भी पूछताछ कर रही है. इसके अलावा इलाके में सक्रिय लुटेरों के बारे में भी जानकारी जुटाई जा रही है.

लुटेरे भाइयों का पहले से ही पीछा कर रहे थे

पुलिस का मानना है कि लुटेरे पहले से ही कारोबारी भाइयों का पीछा कर रहे थे. उनके हाथ में बैग देखकर लुटेरों को लगा होगा कि उसमें मोटी रकम है. कारोबारी जब घर के पास पहुंचे तो वहां लुटेरों को मौका मिल गया और उन्होंने वारदात को अंजाम दिया. हालांकि, बैग में रुपये नहीं, बल्कि कारोबार के हिसाब से संबंधित दस्तावेज थे. हत्या के बाद भी बदमाश बैग ले जाने में कामयाब नहीं हो सके.

पुलिस के खिलाफ लोगों में गुस्सा

हत्या से नाराज लोगों ने शुक्रवार दोपहर सड़क पर शव रखकर जाम लगा दिया और पुलिस के खिलाफ नारेबाजी की. लोगों का आरोप है कि नरेला इलाके में आए दिन वारदात हो रही हैं. कारोबारी सुरक्षित नहीं हैं. वरिष्ठ पुलिस अधिकारियों ने लोगों को समझाकर शांत करवाया, जिसके बाद शव का अंतिम संस्कार किया गया.