सरस सलिल विशेष

उत्तर-पूर्वी जिला में रविवार रात चार घंटे के भीतर ब्रहमपुरी और भजनपुरा में हुई गैंगवार में दो लोगों को मौत के घाट उतार दिया गया, जबकि गोली लगने से एक युवक गंभीर रूप से घायल हो गया. गैंगवार की सूचना पर पुलिस में हड़कंप मच गया. आननफानन में पहुंचे आला अधिकारी और पुलिस की कई टीमें देर रात तक जांच में जुटी रहीं. पुलिस का दावा है कि दोनों जगहों पर 50 से अधिक गोलियां चलीं, इनमें से 30 से 35 गोलियां मृतकों को लगी हैं.

ब्रह्मपुरी गली संख्या-7 के बाहर रात लगभग 9.30 बजे दो बाइक पर सवार होकर आए चार बदमाशों ने सड़क किनारे खड़े होकर बातचीत कर रहे मो. वाजिद और मो. फैज पर ताबड़तोड़ 20 से अधिक गोलियां चलाईं. हमले में वाजिद की मौत हो गई, जबकि मो. फैज की हालत गंभीर बनी हुई है. वाजिद को आठ और फैज को चार गोलियां लगीं. वाजिद के खिलाफ कई मामले दर्ज थे.

सूचना पर पहुंची पुलिस मौके पर छानबीन कर रही थी कि इसी बीच देर रात 1.30 बजे भजनपुरा में गोलियां चलने की सूचना मिली. मौके पर पहुंची पुलिस को पता चला कि दो बाइक पर आए चार बदमाशों ने 24 वर्षीय आरिफ हुसैन रजा को गोली मार दी, इससे उसकी मौके पर ही मौत हो गई.

सूत्रों के अनुसार, हमलावरों ने 30 से अधिक गोलियां चलाईं, जिनमें से लगभग 25 गोलियां आरिफ को लगीं. हालांकि, पुलिस ने प्राथमिक जांच के बाद आरिफ को 15 गोलियां लगने की बात कही है. मौके से गोलियों के 26 खोखे मिले हैं. हत्या का मुकदमा दर्ज कर भजनपुरा पुलिस छानबीन कर रही है.

मौत के बाद भी गोली मारी

पुलिस को जांच में पता चला कि हमलावरों में से एक ने हेलमेट लगा रखा था. हमलावरों ने जब आरिफ पर गोलियां चलाई तो वह जान बचाने के लिए घर की तरफ भागा. मगर गोली लगने के कारण वह कुछ दूर जाकर ही गिर पड़ा. बताया गया कि मौत के बाद भी हमलावर आरिफ पर गोलियां चलाते रहे. उसके सीने, सिर, पेट, पैर, हाथ और कमर आदि पर गोलियां लगी हैं.

दोनों जगह हमलावरों की संख्या चार थी

पुलिस गैंगवार और रंजिश सहित विभिन्न कोणों से मामले की जांच कर रही है. फिलहाल हमलावर पुलिस पकड़ से दूर हैं. दोनों ही वारदातों में दो बाइक पर सवार चार बदमाशों ने गोलियां चलाई हैं. गैंगवार के कारण पूरे जिले की पुलिस को चौकन्ना रहने के लिए कहा गया है.

फोन आने पर घर से निकला

पुलिस के अनुसार, आरिफ परिवार के साथ मौजपुर में रहता था. उसके परिवार में माता-पिता, भाई और दो बहनें हैं. वह पत्रचार से स्नातक करने के साथ ही पिता के कारोबार में भी मदद करता था. रविवार देर रात उसके मोबाइल पर एक कॉल आयी और वह बातचीत करते हुए घर से बाहर निकल गया. आरिफ का कोई आपराधिक रिकॉर्ड अभी तक पुलिस को नहीं मिला है.