सरस सलिल विशेष

16 जुलाई, 2017 की सुबह की बात है. लोग रोजाना की तरह उठ कर अपने दैनिक कामों में लग गए थे. उसी दौरान कुछ लोग स्टोन पार्क की ओर गए, तभी किसी व्यक्ति की नजर वहां पड़ी लाश की ओर गई. इस के बाद जल्दी ही यह बात आग की तरह पूरे पुरानी छावनी थानाक्षेत्र में फैल गई. जहां लाश पड़ी थी, वह क्षेत्र पुरानी छावनी थानाक्षेत्र के अंतर्गत आता था.

स्टोन पार्क में लाश पड़ी होने की खबर सुन कर स्टोन पार्क के आसपास रहने वाले लोगों का घटनास्थल पर जमघट लग गया. इसी बीच किसी ने यह सूचना थाना पुरानी छावनी को दे दी. सूचना मिलते ही थानाप्रभारी प्रीति भार्गव पुलिस टीम के साथ घटनास्थल पर पहुंच गईं. उन्होंने देखा, मृतक 50-55 साल का था और उस की लाश लहूलुहान पड़ी हुई थी.

थानाप्रभारी ने लाश का बारीकी से निरीक्षण किया. मृतक की छाती, गले, हाथ व सिर पर किसी तेजधार हथियार के घाव थे. उस की लाश के पास ही शराब की खाली बोतल और 2 गिलास पड़े हुए थे. इस से अनुमान लगाया गया कि हत्या से पहले हत्यारे ने मृतक के साथ शराब पी होगी. घटनास्थल पर काफी भीड़ इकट्ठा हो चुकी थी.

थानाप्रभारी ने भीड़ से मृतक की शिनाख्त कराई तो किसी ने उस का नाम अंगद कडेरे बताते हुए कहा कि यह स्टोन पार्क की करीबी बस्ती का रहने वाला है और पेशे से हलवाई है. थानाप्रभारी ने एसआई रामसुरेश को अंगद के घर भेज कर उस की हत्या की खबर भिजवा दी. अंगद की पत्नी गीता को जैसे ही पति की हत्या की खबर मिली, उस का रोरो कर बुरा हाल हो गया.

मृतक की पत्नी और बच्चे एसआई रामसुरेश के साथ घटनास्थल पर पहुंच गए थे. पुलिस ने उन से संक्षिप्त पूछताछ कर के घटनास्थल की काररवाई पूरी की और लाश पोस्टमार्टम के लिए भिजवा दी.

मृतक अंगद की पत्नी गीता की तरफ से पुलिस ने अज्ञात हत्यारों के खिलाफ रिपोर्ट दर्ज कर ली. एसपी डा. आशीष ने थानाप्रभारी प्रीति भार्गव को हत्या के शीघ्र खुलासे के निर्देश दिए. थानाप्रभारी ने सब से पहले मृतक अंगद के घर जा कर उस के घर वालों से पूछताछ की. उन लोगों ने बताया कि अंगद की किसी से कोई रंजिश नहीं थी, वह बहुत सीधेसादे इंसान थे. बस उन्हें शराब पीनेपिलाने की आदत थी.

society

15 जुलाई, 2017 की रात उन के मोबाइल पर किसी का फोन आया था. फोन पर बात करने के बाद वे यह कह कर घर से निकल गए थे कि उन्हें जरूरी काम है, बस थोड़ी देर में लौट कर आते हैं. लेकिन जाने के बाद वह वापस लौट कर नहीं आए. सुबह को उन की हत्या की जानकारी मिली.

प्रीति भार्गव ने अंगद कडेरे की पत्नी गीता से विस्तार से बातचीत की, लेकिन उस का इतना भर कहना था कि यह सब कैसे हो गया, इस बारे में उसे कोई जानकारी नहीं है. गीता से बातचीत करते वक्त प्रीति भार्गव की नजर उस के हावभाव पर टिकी हुई थी.

पति के मरने का जो गम होना चाहिए, वह उस के चेहरे पर दिखाई नहीं दे रहा था. गीता थानाप्रभारी से बातचीत करने तक में डर रही थी. यहां तक कि उन से नजरें चुरा रही थी. थानाप्रभारी ने अपने अनुभव से अनुमान लगाया कि कहीं न कहीं दाल में काला जरूर है. लेकिन बिना ठोस सबूत के गीता पर हाथ डालना उन्होंने ठीक नहीं समझा. लिहाजा वे गीता से यह कह कर थाने लौट आईं कि अगर किसी पर संदेह हो तो फोन कर के मुझे बता देना.

इस के बाद थानाप्रभारी ने गीता के मोबाइल नंबर की कालडिटेल्स निकलवाई. कालडिटेल्स से उन्हें पता चला कि घटना वाले दिन गीता के मोबाइल पर देर रात जो आखिरी काल आई थी, वह बंटी जाटव की थी. उन्होंने बिना देरी किए थाने के तेजतर्रार एसआई रामसुरेश और कुछ पुलिसकर्मियों को मुरैना भेजा. पुलिस ने बंटी जाटव के सुभाषनगर स्थित घर से उसे पकड़ लिया और पूछताछ के लिए उसे पुरानी छावनी थाने ले आए.

उस से अंगद कडेरे की हत्या के बारे में गहनता से पूछताछ की तो पहले तो वह खुद को निर्दोष बताता रहा, लेकिन जब उस से सख्ती से पूछताछ की गई तो वह टूट गया. बंटी ने अपना अपराध कबूल करते हुए बताया कि अंगद कडेरे की हत्या उस ने ही की थी. उस ने अंगद की हत्या की जो कहानी बताई, वह अवैध संबंधों पर आधारित थी.

अंगद कडेरे पुरानी छावनी थाने के अंतर्गत आने वाले स्टोन पार्क के पीछे बसी बस्ती में रहता था. वह जवान हुआ तो अपनी आजीविका चलाने के लिए हलवाई का काम करने लगा. उस की पहली पत्नी से 4 बच्चे सपना, गजेंद्र, भारती और विकास थे.

दरअसल, अंगद ने पहली पत्नी मीरा की मौत के बाद गीता से दूसरी शादी कर ली थी. इस से पहले अंगद अपनी दूसरी पत्नी गीता के साथ मुरैना के सुभाषपुरा में रहता था. वहीं उस के पड़ोस में बंटी जाटव रहा करता था. गीता से शादी के बाद उस के यहां 2 बेटे दुर्गेश और आकाश पैदा हुए. बंटी का अंगद के यहां काफी आनाजाना था. उस की गीता से बहुत पटती थी. गीता रिश्ते में उस की भाभी लगती थी, इस नाते वह उस से हंसीमजाक कर लेता था.

अंगद हलवाई था. दिन भर अपनी दुकान और कभीकभी रात में शादीविवाह में काम करने की वजह से वह देर रात को थकामांदा घर लौटता तो पत्नी को ज्यादा वक्त नहीं दे पाता था. खाना खाने के बाद वह शराब पी कर सो जाता था. यह बात गीता को काफी अखरती थी. पति की इस उदासीनता के चलते गीता का झुकाव बंटी की ओर हो गया.

सरस सलिल विशेष

भाभी के इस आमंत्रण को बंटी भांप गया. अंगद के काम पर निकलते ही वह उस के घर पहुंच जाता और अपनी लच्छेदार बातों से गीता का मन बहलाता. जल्दी ही एक दिन ऐसा आया, जब दोनों ने अपनी सीमाएं लांघ कर अपनी हसरतें पूरी कर लीं. दोनों के बीच अवैध संबंध बन गए. घर में अंगद के साथ उस के आधा दरजन बच्चे और पत्नी रहती थी. अंगद के काम पर निकलते ही गीता घर में अकेली रह जाती थी. बंटी इसी का फायदा उठा कर उस के घर पहुंच जाता था. इस तरह काफी दिनों तक दोनों ऐश करते रहे.

जाहिर है, अवैध संबंध छिपाए नहीं छिपते. बस्ती की औरतों को इस बात का शक हो गया कि बंटी अंगद की गैरमौजूदगी में ही उस के घर क्यों आता है. किसी तरह यह बात अंगद के कानों तक पहुंच गई. इस से अंगद का माथा ठनका. उस ने गीता से दोटूक कह दिया कि उस की गैरमौजूदगी में बंटी घर पर कतई न आया करे. लेकिन गीता की शह की वजह से बंटी ने अंगद के घर आना बंद नहीं किया.

यह पता चलते ही अंगद ने खुद ही बंटी से सख्त लहजे में कह दिया कि वह उस की गैरमौजूदगी में घर पर न आया करे, वरना इस का अंजाम बुरा होगा. उधर उस ने अपनी पत्नी गीता को भी जम कर खरीखोटी सुनाई. आखिर बंटी ने अंगद के यहां उस की गैरमौजूदगी में आना बंद कर दिया.

अंगद की रोकटोक की वजह से गीता और बंटी की मुलाकात नहीं हो पा रही थी. दोनों ही बहुत परेशान थे. ऐसे में दोनों को अंगद अपनी राह का कांटा दिखाई देने लगा.

society

एक दिन मौका मिलते ही गीता ने बंटी से मुलाकात की. उस ने बंटी से कहा कि अंगद को हमारे संबंधों की जानकारी हो चुकी है. उस ने मेरे ऊपर जो सख्ती की है, उस हालत में मैं नहीं रह सकती. मुझे तुम इस घुटनभरी जिंदगी से निकालो. बेहतर होगा, किसी तरह अंगद को ठिकाने लगा दो. इस के बाद ही हम दोनों सुकून से रह सकेंगे. गीता की बातों में आ कर वह अंगद की हत्या करने को तैयार हो गया.

15 जुलाई की रात अंगद खाना खाने बैठा ही था कि उस के मोबाइल पर बंटी जाटव का फोन आया. उस ने यह सोच कर उस का फोन रिसीव किया कि उसे कोई काम होगा, इसी वजह से इतनी रात गए फोन कर रहा है.

बंटी बोला, ‘‘अंगद भाई, तुम्हारे लिए एक अच्छी खबर है. मेरे एक रिश्तेदार को बेटे के जन्मदिन पर बड़ी पार्टी देनी है. ऐसा करते हैं हम दोनों मिल कर ठेके पर कैटरिंग का काम ले लेते हैं. पैसे मैं लगा दूंगा. पार्टी से आज ही बात कर लेते हैं. अगर आज बात नहीं की तो पार्टी किसी दूसरे को कैटरिंग का ठेका दे सकती है. तुम जल्दी आ जाओ, मैं स्टोन पार्क के पास तुम्हारा इंतजार कर रहा हूं. अगर बात बन गई तो आज ही पार्टी से एडवांस ले लेंगे.’’

अंगद बंटी की बातों में आ गया. वह गीता से यह कह कर घर से निकल गया कि थोड़ी देर में लौट कर खाना खाएगा. जब वह स्टोन पार्क के करीब पहुंचा तो बंटी वहां शराब की बोतल लिए खड़ा था. अंगद को देखते ही वह बोला, ‘‘चलो, पार्टी के पास चलने से पहले एकदो पैग लगा लेते हैं.’’

दोनों ने वहीं बैठ कर शराब पी. शराब पीने के बाद बंटी ने क हा, ‘‘अब रात भी काफी हो गई है. गीता भाभी खाने के लिए इंतजार कर रही होंगी. हम पार्टी से सुबह बात कर लेंगे. मैं ऐसा करता हूं कि पहले तुम्हें तुम्हारे घर छोड़ देता हूं, उस के बाद अपने घर चला जाऊंगा.’’

उस के बाद अंगद उस की बाइक के पीछे बैठ गया. कुछ दूर चल कर बंटी ने स्टोन पार्क के निकट अपनी बाइक रोक दी और बाइक की डिक्की में रखी कुल्हाड़ी निकाल ली.

अंगद बंटी की योजना से पूरी तरह अनभिज्ञ था. उसे क्या पता था कि अंगद ने डिक्की से कुल्हाड़ी उस की हत्या करने के लिए निकाली है. उस ने अंगद से कहा, ‘‘भाईसाहब, अभी एक बोतल और रखी है मेरी डिक्की में, 2-2 पैग और ले लेते हैं.’’

अंगद बंटी की बात टाल नहीं सका. दोनों जिस जगह पर खड़े हो कर बातचीत कर रहे थे, वहां बैठ कर शराब पीना ठीक नहीं था. लिहाजा वे वहां से कुछ दूर चले और स्टोन पार्क में झाडि़यों के पास बैठ कर शराब पीने लगे.

अंगद एक तो पहले से ही ज्यादा पिए हुए था. 2 पैग और लगाने के बाद उसे ज्यादा नशा हो गया, जिस से उस के कदम लड़खड़ाने लगे. ठीक उसी समय बंटी ने उस पर कुल्हाड़ी से ताबड़तोड़ प्रहार करने शुरू कर दिए.

नशे की हालत में अंगद को संभलने तक का अवसर नहीं मिला. वह निढाल हो कर नीचे गिर पड़ा. कुछ ही देर में उस की मौत हो गई. बंटी ने उसे हिलाडुला कर देखा तो वह मर चुका था. वह वहां से अपने घर मुरैना चला गया. उस ने मुरैना पहुंचते ही गीता को उस के मोबाइल पर अंगद की हत्या की सूचना दे दी.

उस ने बतौर ऐहतियात गीता से कहा कि जब उसे पुलिस द्वारा अंगद की हत्या की खबर मिले तो वह रोने का नाटक करे, जिस से किसी को योजना पर संदेह न हो. पुलिस ने बंटी से पूछताछ के बाद गीता को भी गिरफ्तार कर लिया. उस ने भी बिना नानुकुर के स्वीकार कर लिया कि पति की हत्या की साजिश में वह भी शामिल थी. बंटी की निशानदेही पर पुलिस ने हत्या में प्रयुक्त वह कुल्हाड़ी भी बरामद कर ली, जोकि गीता ने उसे धार लगा कर दी थी.

उस के बाद दोनों को न्यायालय में पेश कर जेल भेज दिया गया. उधर हत्याकांड के खुलासे पर पुलिस अधीक्षक डा. आशीष ने सीएसपी जादौन, टीआई पुरानी छावनी प्रीति भार्गव, एसआई रामसुरेश सिंह कुशवाह को 5 हजार रुपए का इनाम देने की घोषणा की है.

– कथा पुलिस सूत्रों पर आधारित

Tags: