सरस सलिल विशेष

साइप्रस में वह नूरुद्दीन के नाम से जाना जाता था, तो जौर्डन में चार्ल्स ब्रोकलिन. माल्टा में उस की पहचान बिट्टू के रूप में थी, तो दुबई में रेहान खान. तुर्की में वह सफी अहमद के नाम से जाना जाता था. वह इन देशों में बेरोकटोक आताजाता था.

लेकिन उस शख्स का असली नाम प्रसन्नजीत था और वह चैक क्लोनिंग का माहिर खिलाड़ी था. चैक क्लोनिंग कर के उस ने कई कंपनियों को करोड़ों रुपए का चूना लगाया और उस पैसों से वह विदेशों में ऐशमौज करता रहता था.

प्रसन्नजीत की धोखाधड़ी का खुलासा 4 जून, 2017 को तब हुआ, जब पटना के कदमकुआं थाना क्षेत्र के कारोबारी अजीत कुमार जगनानी ने पुलिस में शिकायत दर्ज कराई कि उन के खाते से एक लाख, 95 हजार रुपए फर्जी तरीके से निकाल लिए गए हैं. पुलिस ने जब मामले की जांच शुरू की, तो एक के बाद एक खुलासे होने लगे.

अजीत कुमार जगनानी के खाते से निकाली गई रकम चार्ल्स ब्रोकलिन के यूनियन बैंक के खाते में जमा हुई थी. उस के बाद उस रकम को नैटबैंकिंग के जरीए लोहानीपुर की रहने वाली नरगिस के खाते में ट्रांसफर कर दिया गया था.

पुलिस ने नरगिस को दबोचा, तो उस की निशानदेही पर पहले कदमकुआं इलाके से पिंटू को गिरफ्तार किया गया. उस के बाद पिंटू और नरगिस ने प्रसन्नजीत के नाम का खुलासा कर उसे भी पुलिस के जाल में फंसा दिया.

चैक की क्लोनिंग कर बैंकों से करोड़ों रुपए निकालने वाले प्रसन्नजीत को 5 जुलाई, 2017 को गर्दनीबाग थाना पुलिस ने रात को सरिस्ताबाद इलाके से गिरफ्तार कर लिया. उस के गिरोह के

3 लोगों को भी धरदबोचा गया.

उन के पास से 4 सौ एटीएम कार्ड, 150 सिम कार्ड, अलगअलग बैंकों की 150 मुहरें बरामद की गईं.

इस के अलावा 6 देशों की करंसी, पासपोर्ट और दर्जनों बैंकों की चैकबुक और पासबुक जब्त की गईं. प्रसन्नजीत के खिलाफ पटना के कई थानों में पहले से ही कई केस दर्ज हैं.

पुलिस ने प्रसन्नजीत के मोबाइल फोन को खंगाला, तो किसी इरफान का नंबर मिला. प्रसन्नजीत उस के साथ चैटिंग भी किया करता था.

इरफान साइप्रस का रहने वाला है और प्रसन्नजीत ने पुलिस को दिए बयान में कहा है कि इरफान पिछले कुछ दिनों से भारत में ही है.

इरफान को ही इस कारिस्तानी का मास्टरमाइंड माना जा रहा है. पटना में प्रसन्नजीत ने अपने असली नाम के अलावा नूरुद्दीन, चार्ल्स ब्रोकलिन, बिट्टू, रेहान खान और सफी अहमद के नाम से कई सरकारी बैंकों के अलावा प्राइवेट बैंकों में खाते खुलवा रखे हैं. उन्हीं खातों के जरीए वह चैक क्लोनिंग का खेल खेलता रहा.

पटना के एसएसपी मनु महाराज कहते हैं कि प्रसन्नजीत से पूछताछ के बाद कई बैंकों के मुलाजिमों के भी इस जालसाजी में फंसने के पूरे आसार हैं.

चैक क्लोनिंग के जरीए करोड़ों रुपए की ठगी करने वाले प्रसन्नजीत के पास से जब्त लैपटौप को पुलिस ने एफएसएल की जांच के लिए भेजा है.

पटना से तकरीबन 50 किलोमीटर दूर मसौढ़ी ब्लौक के रहने वाले प्रसन्नजीत ने पुलिस को भरमाने के लिए पहले बताया था कि वह केवल मुहरा है, असली सरगना कंकड़बाग का रहने वाला शाह नाम का आदमी है.

सरस सलिल विशेष

पुलिस प्रसन्नजीत के बताए पते पर गई, तो पता चला कि वहां शाह नाम का कोई आदमी नहीं रहता है. पुलिस अब उसे ही मास्टरमाइंड मान कर छानबीन कर रही है.

शुरुआती जांच में ही पता चला है कि प्रसन्नजीत ने तकरीबन 2 सौ लोगों के नाम से बैंक खाते खुलवा रखे हैं. चैक से उड़ाई गई रकम को इन्हीं खातों में डाला जाता रहा है. अकाउंट में रुपए ट्रांसफर होने के बाद एटीएम कार्ड के जरीए उन्हें निकाल लिया जाता था.

प्रसन्नजीत ने बताया कि 3 साल पहले उसे एक चिट्ठी मिली थी. उस चिट्ठी में लिखा था कि धर्म प्रवचन और धर्म की बातों को कहने के लिए उसे साइप्रस से बुलावा आया है.

चिट्ठी पढ़ने के बाद वह साइप्रस जाने के लिए तैयार हो गया. उसे गिरजाघर जाना था, इसलिए उस ने अपना नाम चार्ल्स ब्रोकलिन रख लिया. उस नाम से उस ने फर्जी आधार कार्ड, ड्राइविंग लाइसैंस और पहचानपत्र भी बनवा लिया. गिरजाघर जा कर उस ने प्रवचन देना चालू कर दिया. इतना ही नहीं, मोहम्मद नूरुद्दीन के नाम से वह साइप्रस की एक मसजिद में भी जाने लगा था.

प्रसन्नजीत के घर वाले उसे ‘गुड्डू’ कह कर बुलाते हैं. उस ने साल 2010 और साल 2013 में पासपोर्ट बनवाया और दोनों में उस का नाम प्रसन्नजीत दर्ज है. वह पटना के साइंस कालेज में पढ़ता था. कालेज में पढ़ने वाली एक लड़की रानी से उसे इश्क हुआ. कुछ दिन बाद उस ने प्रेमिका रानी को बताया कि उस ने अपना धर्म बदल लिया है और अपना नाम रेहान खान रख लिया है.

प्रेमिका को यकीन दिलाने के लिए प्रसन्नजीत ने रेहान खान के नाम का आधार कार्ड, ड्राइविंग लाइसैंस और पहचानपत्र भी बनवा लिया था.

प्रेमिका से वह कहता था कि वह बहुत बड़ा आदमी बन गया है. काम के सिलसिले में वह कई देशों का दौरा कर चुका है.

पुलिस की जांच में पाया गया कि प्रसन्नजीत ने 2 पासपोर्ट बना रखे थे. एक पासपोर्ट उस ने साल 2007 में बनवाया था और दूसरा साल 2010 में. पुलिस ने जब इस बारे में पूछताछ की, तो उस ने बताया कि उस का पासपोर्ट खो गया था, इसलिए दूसरा पासपोर्ट बनवाना पड़ा.

पुलिस ने उस की इस दलील को खारिज कर दिया कि अगर गुम होने के बाद पासपोर्ट बनाया है, तो दोनों पासपोर्ट के नंबर अलगअलग कैसे हो गए? पुलिस ने क्षेत्रीय पासपोर्ट दफ्तर से इस बारे में पता किया, तो प्रसन्नजीत पूरी तरह झूठा साबित हुआ.

ठगी का खेल शुरू करने से पहले प्रसन्नजीत एक प्राइवेट बैंक में नौकरी भी कर चुका था. इस वजह से उसे बैंक की सारी तकनीकों और नियमों के बारे में पता है.

पुलिस ने बताया कि उस के टारगेट पर कंपनी का अकाउंटैंट होता था. बैंक मुलाजिम की मिलीभगत से किसी भी बड़ी कंपनी के खाते का चैक वह आसानी से कैश करवा लेता था.

वह अपने घर से सारी करतूतों को अंजाम देता रहता था. वह चैक की क्लोनिंग करता और बैंक के मुलाजिम को मिला कर उसे भुना लेता.

प्रसन्नजीत के पास तकरीबन हर बैंक की पासबुक और चैकबुक थी. उस के गिरोह में 25 लोग शामिल थे. उस ने सभी लोगों के 8-10 बैंक खाते खुलवा रखे थे. किसी कंपनी को चूना लगाने के बाद वह रुपयों को फर्जी खातों में ही डालता था. इस के लिए वह बैंक मुलाजिम को मोटी रकम देता था.

बैंक मुलाजिम का यह भी काम होता था कि अगर किसी कंपनी का मुलाजिम पैसे गायब होने की शिकायत करे, तो उसे कैसे चलता करना है. फर्जी दस्तखत और चैक दिखा कर कंपनी के मुलाजिमों को भगा दिया जाता था.

पटना के सिटी एसपी चंदन कुशवाहा ने बताया कि चैक क्लोनिंग कर बैंकों से रुपए निकालने वाले गिरोह को पकड़ लिया गया है. गिरोह का साथ देने वाले कई बैंकों के मुलाजिमों की पहचान की जा रही है.

प्रसन्नजीत ने जब बैंकों के चैक क्लोनिंग के तरीके के बारे में बताया, तो पुलिस की आंखें भी फटी रह गईं. जब किसी कंपनी का स्टाफ अपनी कंपनी की चैकबुक ले कर बैंक के काउंटर पर पहुंचता, तो काउंटर पर बैठा बैंक मुलाजिम उस चैक का फोटो ले कर गिरोह के सरगना प्रसन्नजीत को दे देता था.

चैक पर किए गए दस्तखत को देख कर प्रसन्नजीत उस की नकल करता था. कई दफा प्रैक्टिस करने के बाद वह दस्तखत की हूबहू नकल कर लेता था. उस के बाद पहले से अपने पास रखी गई अलगअलग बैंकों की चैकबुक का सीरियल नंबर फोटो वाले चैक नंबर एकदो डिजिट आगे की डालता.

चैक पर कंपनी के मुलाजिम का दस्तखत कर लेता और चैक नंबर बदल कर अपने फर्जी नाम वाले खाते में डाल देता था. चैक क्लियर होने के बाद वह एटीएम कार्ड से पैसे निकाल लेता था.

पुलिस की जांच में यह भी पता चला है कि प्रसन्नजीत के हर फर्जी खाते से लाखों रुपए का ट्रांजैक्शन हुआ है. उस की प्रेमिका रानी और उस के दोस्तों के खातों को भी खंगाला जा रहा है.

अपनी प्रेमिका का बैंक खाता प्रसन्नजीत ही चलाया करता था. वह साल 2011 में 2 बार और साल 2013 में एक बार साइप्रस घूम चुका है.

आईबी ने प्रसन्नजीत से पूछताछ के बाद यह शक जताया है कि प्रसन्नजीत का आईएसआई से कनैक्शन भी हो सकता है.

शातिर प्रसन्नजीत गिरोह के 2 सौ बैंक खातों को फ्रीज कर दिया गया है. उस के और उस के साथियों के पटना समेत दिल्ली, ओडिशा, हैदराबाद, मैसूर, मुंबई, कोलकाता समेत कई शहरों में बैंक अकाउंट हैं.

पुलिस यह जानकारी जुटा रही है कि किसकिस खाते में कबकब कितनी रकम किस खाते से ट्रांसफर की गई और उसे कब निकाला गया.

प्रसन्नजीत के सरिस्ताबाद के घर से सैकड़ों सीडियां भी मिली हैं, जिन में से ज्यादातर ब्लू फिल्मों की हैं.

पटना के सुलतानगंज इलाके की रहने वाली प्रसन्नजीत की प्रेमिका

शैली उर्फ शफकत फाखरा ने पूछताछ के दौरान पुलिस को ऐसी बातें

बताई हैं, जिस से पुलिस के कान खड़े हो गए हैं. आईबी के बाद एटीएस और एनआईए भी उस से पूछताछ कर सकती है.

खातों से धोखाधड़ी पर 10 दिनों में रकम वापस

भारतीय रिजर्व बैंक ने ग्राहकों को यकीन दिलाया है कि अगर वे औनलाइन बैंकिंग की धोखाधड़ी के शिकार होने के 3 दिनों के अंदर शिकायत दर्ज कराते हैं, तो उन्हें नुकसान नहीं उठाना पड़ेगा.

भारतीय रिजर्व बैंक ने 6 जुलाई, 2017 को साफ किया कि समय सीमा के अंदर शिकायत करने पर 10 दिनों के भीतर रकम वापस कर दी जाएगी. गैरकानूनी लेनदेन में अगर सूचना देने के 4 से 7 दिन की देरी होती है, तो ग्राहकों को 25 हजार रुपए तक का नुकसान उठाना पड़ेगा.

साथ ही, यह भी कहा गया है कि ग्राहक गोपनीय बैंकिंग जानकारी किसी से साझा करता है यानी खाताधारक की गलती से नुकसान हुआ हो और वह बैंक को सूचना भी नहीं देता है, तो उसे पूरा नुकसान उठाना पड़ेगा.

डेबिटक्रेडिट कार्ड के गैरकानूनी लेनदेन की बढ़ती शिकायतों के बाद आरबीआई ने नए दिशानिर्देश जारी किए हैं.