एक दिन छम्मक के घर पर…नींद में चलने की बीमारी की वजह से मुझे शर्मिंदगी उठानी पड़ती है.