सरस सलिल विशेष

बौलीवुड अभिनेत्री मनीषा कोइराला 90 के दशक की बेहतरीन अभिनेत्रियों में गिनी जाती हैं. इन्होंने अपने करियर के दौरान कई हिट फिल्में दीं हैं. वह हिंदी फिल्मों के अलावा नेपाली, तमिल, तेलगु, मलयालम फिल्मों में भी काम करती रही हैं. मनीषा कोइराला भरतनाट्यम और मणिपुरी नृत्य में भी पूर्ण रूप से पारंगत हैं. मनीषा कोइराला जिस वक्त बौलीवुड इंडस्ट्री में काफी मशहूर एक्ट्रेस हो चुकी थीं उस वक्त भी उनकी तमन्ना थी कि उन्हें अमिताभ बच्चन के साथ एक फिल्म मिल जाए. मनीषा कोइराला को करीब 8 साल बाद अमिताभ बच्चन के साथ पहली फिल्म की थी.

मनीषा कोइराला ने अपने फिल्मी सफर की शुरुआत साल 1991 में रिलीज हुई फिल्म सौदागर से की थी. इस फिल्म में उनके साथ बी-टाउन के दो लीजेंड राज कुमार और दिलीप कुमार भी थे. मनीषा की यह पहली फिल्म साल की ब्लौकबस्टर हिट फिल्म साबित हुई थी. पहली ही फिल्म से मनीषा रातों-रात स्टार बन गई थीं.

इसके बाद उन्होंने कई हिट फिल्मों में काम किया. इसके बावजूद उनके जहन में सिर्फ एक मलाल रहता था अमिताभ बच्चन के साथ काम करने का मौका ना मिलना. इसी बीच साल 1996 में रिलीज हुई फिल्म ‘खामोशी’ ने उन्हें टौप लीडिंग एक्ट्रेस बना दिया. इस फिल्म में उनके साथ नाना पाटेकर और सलमान खान नजर आए थे. अब मनीषा अपनी फिल्में काफी सोच समझकर चुनने लगी थीं लेकिन जैसे ही उन्हें अमिताभ बच्चन स्टारर फिल्म में काम करने का मौका मिला तो उन्होंने बिना देर किए फिल्म में काम करने के लिए हां कर दी थी.

बौलीवुड फिल्म इंडस्ट्री के फेमस डायरेक्ट के.सी बोकाड़िया ने मनीषा को मार्च 1999 में रिलीज हुई फिल्म ‘लाल बादशाह’ में काम करने के लिए पूछा. मनीषा को जैसे ही पता चला कि फिल्म में अमिताभ बच्चन हैं तो उन्होंने बिना स्क्रिप्ट पढ़े फिल्म करने के लिए हां कर दिया था. हालांकि उस वक्त तक मनीषा करीब 22 फिल्में कर चुकी थीं.