सरस सलिल विशेष

संजय लीला भंसाली की फिल्म पद्मावती का पूरे देश में विरोध जारी है. बहुत से संगठन फिल्म पर पूरी तरह से बैन लगाने की मांग कर रहे हैं तो करणी सेना का कहना है कि बिना उन्हें दिखाए फिल्म को रिलीज नहीं होने दिया जाएगा.

1 दिसंबर को इस फिल्म को रिलीज होना था लेकिन आखिरी समय पर निर्माताओं ने अपना फैसला बदल लिया. आशंका जताई जा रही है कि फिल्म अब अगले साल की शुरुआत में रिलीज होगी. इस मामले पर न्यूज 18 ने गायक सोनू निगम से बातचीत की. उनका यह विडियो काफी वायरल हो रहा है.

सोनू निगम ने कहा कि संजय लीला भंसाली के साथ मैंने कभी काम तो नहीं किया लेकिन वो बहुत अच्छे इंसान हैं. फिल्म निर्माता के तौर पर उनका मकसद होता है कि पैशन के साथ ग्लैमराइज करके फिल्म को वे पेश करें. मैं आपको एक बात याद दिलाता हूं जो शायद आपको याद नहीं होगी. प्रोड्क्शन हाउस ने प्रमोशन के समय कहा था कि फिल्म में अलाउद्दीन का पद्मावती के साथ रोमांस दिखाया जाएगा, गलती दोनों तरफ से हुई हैं. पद्मावती की कहानी ऐतिहासिक है ना कि फिक्शन या माइथोलौजी पर आधारित.

पद्मावती पर विवाद बढ़ता देख संजय लीला भंसली आते हैं और यूट्यूब पर सफाई वाला एक वीडियो छोड़ जाते हैं, लोग ऐसा बोल रहे हैं कि यह उनकी मार्केटिंग रणनीति का हिस्सा है?  इस सवाल के जवाब में सोनू ने कहा- नहीं मेरे ख्याल से यह मार्केटिंग स्ट्रैटेजी का हिस्सा नहीं होगा. संजय भंसाली इससे ऊपर हैं. मेरे हिसाब से संजय भंसाली को गाइड करने वाले सहीं लोग नहीं हैं. या तो वे चमचो से घिरे हुए हैं या तो ऐसे लोग हैं जो उनसे कहते हैं कि चुप रहो.

सोनू ने आगे कहा- फतवा का जो चक्कर चल रहा है हमारे देश में, हर कोई फतवा जारी कर रहा है. इसका गला काट दो, इसके बाल काट दो. मैं इस बात पर नजर डालना चाहूंगा कि मीडिया ने ही मेरा पूरा साथ दिया जब मेरे ऊपर फतवा आए थे. इंडस्ट्री से बहुत कम लोग साथ में थे. बहुत कम लोगों ने इस बात को उठाने की जहमत कि यह जानते हुए भी कि मैं सही बात कह रहा हूं.