सरस सलिल विशेष

इन दिनों ‘‘बिग मैजिक’’ चैनल के सीरियल ‘‘रूद्र के रक्षक’’ में मुख्य भूमिका निभा रहे अभिनेता शिवा  पूरे दस वर्ष बाद सक्रिय हुए हैं. उनकी सक्रियता अब इतनी बढ़ गयी है कि वह ‘चट्टान’,‘डोंट बी वरी बी हैप्पी’ सहित सात फिल्मों में भी अभिनय कर रहे हैं. इतना ही नहीं अब उन्हे दुकानों की शुरुआत के वक्त भी याद किया जाने लगा है.

हाल ही में वह गुजरात राज्य में सूरत के पास बारडोली के कपिल नगर में ‘‘जयश्री गणेश’’ नामक वातानुकूलित पान शौप का उद्घाटन करने पहुंचे. जबकि 2006 में महिमा चौधरी के साथ फिल्म ‘‘सौतनःद अदर ओमन’’ के बाद वह किसी भी फिल्म या सीरियल में पूरे दस वर्ष तक नजर नहीं आए. 2006 से पहले शिवा ने ‘हम’,‘देशद्रोही’ व ‘घातक’ सहित दो सौ फिल्मों में अभिनय किया था. आखिर पूरे दस वर्ष तक वह गुमनाम क्यों रहे?

जब हमने शिवा से यह सवाल किया, तो शिवा ने कहा-‘‘बौलीवुड का मसला बहुत अलग है. यहां आप एक सफल फिल्म में बेहतरीन किरदार निभाते हैं, तो लोग आपको कई वर्ष तक याद रखते हैं. मेरा करियर बहुत अच्छा जा रहा था.

पर अचानक मैने एक फिल्म ‘रक्त’ का निर्देशन किया था. इसके बाद हर किसी ने यह मानकर मुझे फिल्में देनी बंद कर दी कि शिवा तो अब निर्देशक बन चुका है. इसी के चलते पूरे दस वर्ष तक मुझे एक भी फिल्म नहीं मिली.

पर अचानक एक दिन मेरे पास टीवी सीरियल ‘रूद्र के रक्षक’ में मुख्य भूमिका निभाने का औफर आया, जिसे मैने स्वीकार लिया. इसमें मेरा अभिनय लोगों को फिर से प्रभावित कर रहा है. अब मैं सात फिल्में भी कर रहा हूं. सच कहूं तो मेरे करियर की दूसरी पारी की शुरुआत काफी अच्छी हुई है, भले ही इसमें दस वर्ष का समय लग गया.’’