पता नहीं फिल्मकारों को कब समझ में आएगा कि काठ की हांडी बार बार आग पर नहीं चढ़ती.