सरस सलिल विशेष

सिनेमा में आए बदलाव के चलते इन दिनों व्यावसायिक व मसाला फिल्मों की भीड़ में भी कुछ फिल्मकार देश व समाज के लिए उपयोगी फिल्मों के निर्माण में व्यस्त हैं. ऐसी ही एक कश्मीर में सीमा रेखा पर व मनाली में फिल्मायी गयी फिल्म है- ‘‘टेरर स्ट्राइकः बियौंड बाउंड्री’’,जो कि कई अंतरराष्ट्रीय फिल्म समारोहों में जलवा दिखाने के बाद अब 19 जनवरी को पूरे भारत के सिनेमाघरों में प्रदर्शित हो रही है.

मूलतः झारखंड राज्य के झरिया, धनबाद निवासी और देश के प्रति ईमानदार और सकारात्मक सोच रखने वाले मनोज पांडे इस फिल्म के निर्माता तथा कमल नथानी लेखक व निर्देशक हैं.

entertainment

आर्मी पृष्ठभूमि की फिल्म ‘‘टेरर स्ट्राइकः बियौंड बाउंड्री’’ में सीमा पर तैनात जवानों की हालत, उनकी मानसिक स्थिति, उनकी परेशानियों के साथ सैनिको के अंदर की देशभक्ति के जज्बे का भी चित्रण है.  फिल्म में इस बता का भी रेखांकन है कि आतंकवादियों के सामने सीना तानकर खड़े रहने वाले हमारे सैनिक किस तरह व कितना राजनीति व लाल अफसरशाही के सामने बेबस हैं.

फिल्म के निर्माता मनोज पांडे कहते हैं- ‘‘फिल्में समाज का आइना होती है. हम सिनेमा के माध्यम से लोगो को सामाजिक उत्थान और बेहतर जिंदगी का संदेश दे सकते हैं.

‘‘ड्रीमसिटी इंटरटेनमेंट प्रा.लिमिटेड’’ के बैनर तले बनी फिल्म ‘‘टेरर स्ट्राइकः बियौंड बाउंड्री’’ में रजत बेदी, मुकेश तिवारी, जाकिर हुसैन, मनीष वाधवा व तान्या पुरोहित ने अहम किरदार निभाए हैं.