सरस सलिल विशेष

हाल ही में सोनम कपूर ने हमसे बातचीत करते हुए कहा था कि बौलीवुड में सबसे अधिक प्रतिस्पर्धा है और यह प्रतिस्पर्धा रचनात्मक नहीं है. इसका जीता जागता सबूत अब संजय लीला भंसाली और ‘वायकौम 18’ अपनी फिल्म ‘पद्मावत’ के प्रदर्शन के साथ ही पेश कर रहा है.

अक्षय कुमार, राधिका आप्टे व सोनम कपूर के अभिनय से सजी फिल्म ‘पैडमैन’ 25 जनवरी को प्रदर्शित होने वाली है. ‘पैडमैन’ के प्रदर्शन की तारीख एक वर्ष पहले ही घोषित की गयी थी, पर विवादों के चलते ‘पद्मावत’ एक दिसंबर को रिलीज नहीं हो सकी. अब संजय लीला भंसाली व वायकौम 18 ने ‘पद्मावत’ को 25 जनवरी को ‘पैडमैन’ के साथ रिलीज करने की घोषणा की और इस तरह के पोस्टर भी सोशल मीडिया में डाल दिए गए हैं.

मगर सूत्र दावा कर रहे हैं कि ‘वायकौम 18’ और संजय लीला भंसाली ने मन बना लिया है कि वह अपनी फिल्म ‘पद्मावत’ को 25 जनवरी से एक दिन पहले 24 जनवरी की शाम को ही रिलीज कर देंगे. इस तरह वह ‘पैडमैन’ से बाजी मार ले जाएंगे. सूत्रों का दावा है कि संजय लीला भंसाली व ‘वायकाम 18’ ने एक स्ट्रेटजी के तहत 24 जनवरी को फिल्म ‘पद्मावत’ का सिर्फ एक ही शो रखा है. इस शो के लिए टिकट की खास दरें रखी गयी हैं.

सूत्र बताते हैं कि जब 24 जनवरी को ‘पद्मावत’ रिलीज हो जाएगी, तो उसे देखकर दर्शक खुद ब खुद फिल्म की माउथ पब्लिसिटी कर देगा. जिसके परिणाम स्वरुप 25 जनवरी से दर्शक ‘पैडमैन’ की बजाय ‘पद्मावत’ को ही देखना चाहेंगे.

सूत्र बता रहे हैं कि फिल्म ‘पद्मावत’ को लेकर संजय लीला भंसाली, दीपिका पादुकोण, रणवीर सिंह व शाहिद कपूर मीडिया से कोई बात नहीं करेंगे. यह कलाकार इस फिल्म का प्रमोसन नहीं करेगे. इस तरह अब वह किसी भी तरह के नए विवाद को पनपने नही देंगे.

जबकि ‘पद्मावत’ की राह आसान नजर नही आ रही है. गुजरात, राजस्थान, हरियाणा व मध्य प्रदेश इन चार राज्यों ने फिल्म ‘पद्मावत’ के रिलीज पर बैन लगा दिया है. तो वहीं महाराष्ट्र और गोवा की पुलिस ने इन राज्यों के मुख्यमंत्रियों से कई तरह की असुरक्षा आदि के संकट का अंदेशा बताकर फिल्म ‘पद्मावत’ को बैन करने की सलाह दी है.

मल्टीप्लैक्स सिनेमाघरो के मालिको ने कहा है कि पुलिस से सुरक्षा का लिखित आश्वासन मिलने के बाद ही वह फिल्म को प्रदर्शित करेंगे. उधर करणी सेना के नेताओं ने दिल्ली सहित दूसरे राज्यों के मुख्यमंत्रियों के पास जाकर फिल्म को बैन करने की मांग करने की बात कही है. इतना ही नहीं राजपूत करणी सेना के नेता दावा कर रहे हैं कि वह किसी भी सूरत में ‘पद्मावत’ को प्रदर्शित नहीं होने देंगे. जबकि कुछ राजपूत महिला संगठनों ने ‘पद्मावत’ के प्रदर्शित होने पर जोहर करने की धमकी भी दी है.

कुछ राज्यों द्वारा ‘पद्मावत’ को बैन किए जाने के खिलाफ फिल्म की निर्माण कंपनी ने सुप्रीम कोर्ट में गुहार लगायी है. सुप्रीम कोर्ट इस मसले पर क्या कदम उठाता है, यह तो दो चार दिन में सामने आएगा.

अब देखना यह है कि 24 जनवरी तक किस तरह के घटनाक्रम होते हैं और अंततः उंट किस करवट बैठता है.